वाराणसी पहुंचकर CM योगी आदित्यनाथ ने किया कुछ ऐसा, इतिहास में दर्ज हो गया नाम

1:53 pm 14 Jun, 2018

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ दो दिन के लिए वाराणसी पहुंचे थे। यूं तो उत्तर प्रदेश के किसी मुख्यमंत्री के लिए वाराणसी की यात्रा कोई बड़ी बात नहीं रही है, लेकिन योगी आदित्यनाथ का यह दौरा खास था। दरअसल, योगी आदित्यनाथ पंचक्रोशी यात्रा का हिस्सा बने। इस दौरान उन्होंने काशी विश्वनाथ का दर्शन व पूजन भी किया।

योगी आदित्यनाथ का पंचक्रोशी यात्रा में शामिल होना इसलिए ऐतिहासिक है क्योंकि इससे पहले कल्याण सिंह, राजनाथ सिंह, मुलायम सिंह यादव, अखिलेश यादव और मायावती में से किसी भी पूर्व मुख्यमंत्री ने यह यात्रा नहीं की थी। यही वजह है कि जिसके चलते योगी की पंचक्रोशी यात्री इतिहास के पन्नों में हमेशा हमेशा के लिए दर्ज हो गई।

 

योगी आदित्यनाथ वाराणसी पहुंचे।

 

 

देश व राज्य की उन्नति की कामना का संकल्प लिए शनिवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ  ने मणिकार्णिका कुंड से अपनी यात्रा प्रारंभ की। योगी के मणिकार्णिका कुंड पहुंचते ही पूरा क्षेत्र हर-हर महादेव व जय श्रीराम के उद्घोष से गूंज उठा। यात्रा के दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के साथ पार्टी के तमाम पदाधिकारी औरजनप्रतिनिधी भी मौजूद थे। इस दौरान उन्होंने मार्ग में पड़ने वाली बुनियादी सुविधाओं का भी जायजा लिया। हर मार्ग पर मुख्यमंत्री की एक झलक पाने के लिए लोगों की भारी भीड़ उमड़ी हुई थी, जिसे देखते हुए सुरक्षा के कड़े इंतजाम भी किए गए थे।

 




 

योगी आदित्यनाथ ने यात्रा के पड़ाव में पड़ने वाले पांचों मंदिरों में दर्शन किए। नियमित अंतराल पर स्थित ये 5 पड़ाव यात्रियों को ठहरने, विश्राम करने और भगवान की आराधना करने के लिए ही बनाए गए हैं। योगी इस यात्रा को पूरा करने के लिए नंगे पांव निकले थे। इस बीच, यात्रा के दौरान उन्होंने मौनव्रत धारण कर रखा था। पंचक्रोशी यात्रा को योगी ने छः घंटे में पूरा किया।

 

 

यात्रा पूरा करने के बाद मुख्यमंत्री योगी ने मंदिर में पहुंच कर पूरे विधि-विधान के साथ पूजा-अर्चना की। पूजा में योगी खुद मंत्र उच्चारण करते नजर आए। इसके बाद मंदिर के पुरोहितों से उन्होंने आशीर्वाद भी लिया। बनारस की पावन धरती पर कदम रखते ही योगी का इस तरह पंचक्रोशी यात्रा करना स्थानीय लोगों को भी काफी पसंद आया।

 

 

बता दें कि काशी की इस अमूर्त धरोहर को पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने के लिए राज्य सरकार ने 101 करोड़ रुपए की राशि देने का एेलान किया है।



Discussions
Popular on the Web