Advertisement

दुनिया की 10 सबसे ताकतवर खुफिया एजेंसी, भारत का नाम भी शामिल

10:00 am 13 Aug, 2018

Advertisement

इंटेलिजेंस एजेंसी यानी की खुफिया विभाग किसी भी देश की रीढ़ की हड्डी होती है, क्योंकि यही एजेंसी आतंरिक और बाहरी संभावित खतरों से देश को आगाह करतr है। ये एजेंसी इतने खुफिया तरीके से काम करती है कि किसी को इनके काम की भनक तक नहीं लगती। इसके एजेंट आम नागरिकों के बीच ही होते हैं, मगर किसी को पता नही चलता। चलिए, आपको बताते हैं, दुनिया की कुछ ताकतवर एजेंसियों के बारे में।

 

सेंट्रल इंटेलिजेंस एजेंसी (सीआईए)

 

अमेरिका की खुफिया एजेंसी सीआईए सबसे ताकतवर एजेंसी मानी जाती है। सीआईए साइबर क्राइम, आतंकवाद रोकने के साथ ही देश की हिफाज़त का काम भी करती है। ये आतंकियों को बहुत क्रूर तरीके से ट्रॉर्चर करती है। टॉर्चर के लिए उन्हें नगा करके घसीटने से लेकर इतना ऊंचा म्यूज़िक सुनाया जाता है कि वो बहरे हो जाएं। इस एजेंसी का हेडक्वार्टर वॉशिंगटन में हैं और इसे सबसे अमीर एजेंसी माना जाता है।

 

 

मिलि‍ट्री इंटेलिजेंस सेक्शन-6

 

ब्रिटेन की खुफिया एजेंसी की गिनती सबसे खतरनाक एजेंसियों में होती है। साथ ही ये दुनिया की सबसे पुरानी खुफिया एजेंसी हैं। एमआई6 ज्वाइंट इंटेलिजेंस, सेना और सरकार को खुफिया जानकारी देती है। साथ ही ये देश की आतंरिक सुरक्षा एजेंसियों की भी निगरानी करती है। इसकी एक खूबी यह भी है कि यह अन्य देशों की खुफिया एजेंसियों के साथ भी काम करती है।

 

 

इंटर सर्विस इंटेलिजेंस (आईएसआई)

 

पाकिस्तान की इस एजेंसी के नाम से तो आप वाकिफ होंगे ही। यही वो एजेंसी है जिसे भारत में आतंकी गलिविधियों के लिए जिम्मेदार माना जाता है। भारत में हुए कई आतंकी हमलों में भी आईएसआई एजेंट्स की भूमिका रही है। पाकिस्तान भले ही कमजोर देश हो, मगर उसकी खुफिया एजेंसी काफी मज़बूत है। पाकिस्तानी और सरकार उसके कहे अनुसार ही चलती है।

 

 

मोसाद (MOSSAD)

 

इज़राइल की खुफिया एजेंसी मोसाद न सिर्फ दुनिया की सबसे बेहतरीन ख़ुफ़िया एजेंसियों में से एक है, बल्कि इसे सबसे हाईटेक एजेंसी भी माना गया है। आपको जानकर हैरानी होगी कि आज तक इसका कोई भी ऑपरेशन फ़ेल नहीं हुआ है। मोसाद के एजेंट्स को किलिंग मशीन भी कहा जाता है, क्योंकि ये किसी भी देश के अंदर घुसकर दुश्मन का खात्मा कर देते हैं।

 

 

रिसर्च एंड एनालि‍सिस विंग (रॉ)

 

1968 में बनी भारत की खुफिया एजेंसी रॉ भी दुनिया की सबसे ताकतवर खुफिया एजेंसियों की लिस्ट में शामिल है। रॉ आतंकवाद और बाहरी खतरों से देश का आगाह करती है, जबकि आंतरिक खतरों से जुड़ी जानकारी इंटेलिजेंस ब्यूरो (आईबी) देता है। रॉ देश की सभी आंतरिक सुरक्षा एजेंसियों के साथ मिलकर काम करती है।


Advertisement
 

 

फेडरल सिक्योरिटी सर्विस (एफएसबी)

 

रूस को मज़बूत बनाने में उसकी खुफिया एजेंसी का बहुत योगदान है। ये खुफिया एजेंसी  इंटेलिजेंस से जुड़े मामलों के अलावा सीमा सुरक्षा के मसले पर भी पैनी नज़र रखती है।

 

 

मिनिस्ट्री ऑफ स्टेट सेफ्टी (एमएसएस)

 

चीन की ये खुफिया एजेंसी बहुत पुरानी नहीं है, मगर इसकी गिनती सबसे ताकतवर एजेंसियों में होती है। इसका काम काउंटर इंटेलिजेंस ऑपरेशंस, फ़ॉरन इंटेलिजेंस ऑपरेशंस और राजनीतिक सुरक्षा से जुड़े मसलों को देखना है।

 

 

? ?? (Bundesnachrichtendienst)

 

जर्मनी की ये खुफिया एजेंसी बहुत हाईटेक और आधुनिक तकनीकों से लैस है। इसे दुनिया की सबसे तेज एजेंसी माना जाता है जो खतरे को पहले से ही भांप लेती है।

 

 

ऑस्ट्रेलियन सीक्रेट इंटेलिजेंस सर्विस (एएसआईएस)

 

ऑस्ट्रेलिया की ये खुफिया एजेंसी 1952 में बनी थी और ये बहुत मज़बूत है, तभी तो आज तक ऑस्ट्रेलिया आतंकी हमलों से बचा हुआ है। इसका हेडक्वार्टर केनबरा में है।

 

 

डायरेक्टोरेट जनरल फॉर एक्स्टर्नल सिक्योरिटी (DGSE)

 

फ्रांस की ये खुफिया एजेंसी आंतरिक सुरक्षा की बजाय सिर्फ बाहरी सुरक्षा से जुड़ी जानकारी जुटाती है और सरकार को खतरे से आगाह करती है। ये सरकार को आईएस की आतंकी गतिविधियों के बारे में भी बताती है।

 

Advertisement


  • Advertisement