Advertisement

गैराज से हुई थी दुनियाभर की इन मशहूर कंपनियों की शुरुआत, आज है अरबों का टर्नओवर

11:21 am 30 Mar, 2018

Advertisement

कुछ बड़ा करने के लिए शुरुआत छोटे स्तर से ही करनी होती है और एप्पल और अमेज़न जैसी मल्टीनेशनल कंपनियां इसकी बेहतरीन मिसाल हैं। आज अरबों-खरबों का बिज़नेस करने वाली कंपनियों के ऑफिस बहुत शानदार हैं। हालांकि, एक समय ऐसा भी था जब इन्हें बेहद छोटी जगह से शुरुआत करनी पड़ी थी। आपको जानकर हैरानी होगी कि दुनियाभर की कई मशहूर कंपनियों ने शुरुआत गैराज से की है। जी हां, गैराज ही इन कंपनियों का पहला ऑफिस था।

अमेजन

 

मशहूर ईकॉमर्स कंपनी आज दुनिया की सबसे बड़ी ऑनलाइन रिटेलर कंपनी हैं, लेकिन 1994 में जब इसकी शुरुआत हुई तो इसके संस्थापक जेफ बेज़ोस के पास कोई अलग ऑफिस नहीं था। उन्होंने अपने गैराज में ही एक ऑनलाइन बुकस्टोर खोला और इस कंपनी ने Amazon.com वेबसाइट पर 1995 में पहली किताब बेची। 1997 में जेफ ने अपने छोटे से बुकस्टोर को पब्लिक कर दिया। आज जेफ की गिनती दुनिया के सबसे अमीर शख्स में होती है।

 

एप्पल

 

तकनीक के दीवानों के लिए एप्पल के प्रोडक्ट्स एक तरह का स्टेटस सिंबल हैं। आज एप्पल की मार्केट वैल्यू 1 ट्रीलियन डॉलर है। हालांकि, इस कामयाब कंपनी की शुरुआत बहुत ही छोटे स्तर पर हुई थी। 1976 में स्टीव जॉब्स और स्टीव वोजनिएक ने मिलकर एप्पल को लॉन्च किया था। उस समय जॉब्स की उम्र 21 साल थी जबकि वोजनिएक 26 साल के थे। इन नौजवानों ने कंपनी की शुरुआत कैलिफोर्निया के एक गैराज से की थी। वहीं, इन्होंने पहला एप्पल कंप्यूटर बनाया था। आज एप्पल की गिनती टॉप की टेक्नोलॉजी कंपनियों में होती है।

 

डिज़नी

आज पूरी दुनिया में मशूहर थीम पार्क डिज़नी शुरुआत में इतना ग्लैमराइज़ नहीं था। वॉल्ट डिज़नी और उनके भाई ने अपने अंकल के गैराज में पहला डिज़नी स्टूडियो खोला। यहां एलिस कॉमेडिज़ की शूटिंग हुई थी। आज डिज़नीलैंड दुनिया भर के बच्चों का पसंदीदा थीम पार्क तो है ही, यह हॉलीवुड मूवी स्टुडियो भी है। और तो और अब डिज़नी दुनिया में सबसे ज़्यादा कमाई करने वाली इंटरटेनमेंट कंपनी बन गई है।

 

गूगल

 


Advertisement
गूगल के बिना शायद आपका भी काम नहीं चलता होगा, हम हर सवाल के जवाब के लिए तुरंत गूगल सर्चकरते हैं। आज की तारीख में इसका ऑफिस भी बहुत शानदार है और यहां काम करना हर किसी का सपना होता है। यह अलग बात है कि इस कंपनी को शुरू करने के लिए लैरी पेज और सर्जेई ब्रायन को बहुत मशक्कत करनी पड़ी थी। उन्होंने एक गैराज से इसकी शुरुआत की। इतना ही नहीं कुछ दिनों काम करने के बाद जब इन दोनों को लगा कि इसकी वजह से उनकी पढ़ाई पर असर हो रहा है तो दोनों ने इरे बेचनी की कोशिश की थी। हालांकि, यह बिकी नहीं। आज गूगल दुनिया का सबसे बड़ा सर्च इंजन है।

 

हार्ले डेविडसन

 

बाइक के शौकीनों के लिए हार्ले डेविडसन की बाइक चलाना एक सपना होता है। 1901 में 21 साल के विलियम हार्ले ने साइकिल की क्षमता बढ़ाने के लिए उसमे एक छोटा इंजन लगाने की योजना बनाई। इसके दो साल बाद उन्होंने अपने बचपन के दोस्त अर्थर डेविडसन के साथ मिलकर एक गैराज में पहली मोटरसाइकल बनाई। हार्ले डेविडसन कंपनी की आधिकारिक स्थापना 1903 में हुई और आज यह दुनिया की सबसे मशहूर मोटरलाइकिल कंपनियों में से एक है।

 

माइक्रोसॉफ्ट

 

बिल गेट्स और पॉल एलेन ने 1975 में बहुत थोड़े से संसाधनों के साथ एक गैराज से कंपनी की शुरुआत की थी। माइक्रोसॉफ्ट एप्पल की तरह हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर दोनों नहीं बनाता, बल्कि इसने शुरुआत से ही सॉफ्टवेयर मार्केट पर ध्यान रखा और वही बनाया। आईबीएम के साथ काम करते हुए कंपनी को अपने पहले ऑपरेटिंग सिस्टम का लाइसेंस लेने के लिए सिर्फ़ 80,000 डॉलर चुकाने पड़े थे।

 

 

इन कंपनियों की सफलता को देखकर साफ हो जाता है कि कभी कोई शुरुआत छोटी नहीं होती, क्योंकि छोटे से ही तो बड़ी सफलता मिलती है। इसलिए जीवन में कभी निराश न हों और अपना काम पूरी मेहनत के साथ करते जाएं, सफलता ज़रूर मिलेगी।

Advertisement


  • Advertisement