Advertisement

ये है दुनिया का सबसे सर्द गांव, जहां का तापमान सुनकर आपके होश उड़ जाएंगे

author image
12:17 pm 19 Jan, 2018

Advertisement

इन दिनों पूरी दुनिया सर्दी का सितम झेल रही है। ऑफिस या घर में बैठे-बैठे हम यही सोचते हैं कि सर्दी कितनी ज्यादा है। लेकिन उनकी सोचिए जो इस वक्त दुनिया की सबसे ठंडी जगह में रह रहे हैं। हम आपको एक ऐसे गांव के बारे में बताने जा रहे हैं, जहां का तापमान सुनकर आपके होश उड़ जाएंगे।

1. रूस के साइबेरिया में बर्फ की घाटी में ओइमयाकन नाम का एक गांव है, जहां सबसे अधिक ठंड रहती है।

 

 

2. ओइमयाकन दुनिया की सबसे ठंडी जगह है। इस गांव को ‘पोल ऑफ़ कोल्ड’ भी कहा जाता है।

 

 

3. फिलहाल यहां तापमान -67 डिग्री पहुंच गया है।

 

 

 

4. ठंड का कहर इतना है कि वहां लोगों की पलकें तक जम गई हैं।

 

 

5. अजीब बात ये है कि रूसी भाषा में ओइमयाकन का मतलब होता है, ऐसी जगह जहां पानी जमता नहीं हो, लेकिन यहां पानी तो क्या खून तक के जमने की नौबत आ गई है।

 

 

 

6. जनवरी के महीने में आमतौर पर यहां -50 तक तापमान पहुंच जाता है। हालांकि, इस बार ठंड के कहर का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि तापमान नापने वाला थर्मामीटर ही टूट गया।

 

 

7. साल 1933 में इस गांव का तापमान -67.7 डिग्री रिकॉर्ड किया गया था। वैसे इतिहास में इस गांव का तापमान -71 डिग्री तक पहुंच चुका है।

 

 

8. यहां की कुल आबादी 500 के करीब है। पेड़ से लेकर नदी तक सभी कुछ पूरी तरह जम गया है।

 


Advertisement
 

9. इतने कम तापमान में गुजर-बसर करने की यहां के लोगों को आदत हो गई है। ये लोग खेती-पशुपालन पर निर्भर हैं।

 

 

10. बताया जाता है कि साल 1930 से पहले यहां कोई नहीं रहता था, लेकिन 1930 में यहां फौजी कुछ वक्त के लिए रुकने आये थे। फिर सरकार ने यह जगह नोमैडिक लोगों को दे दी और लोगों ने यहां आकर अपना ठिकाना बना लिया।

 

 

11. ठंड से बचने लिए घरों में कोयला और लकड़ी जलाई जाती है।

 

 

 

12. इतने ठंडे मौसम में यहां कोई पौधा भी पनप नहीं पाता है। इसलिए लोग हिरन और घोड़े का मांस खाते हैं।

 

 

13. यहां मछलियां बेचने वालों को मछली फ्रिज में रखने की जरूरत नहीं होती, क्योंकि हवा का तापमान उन्हें सड़ने से बचाता है।

 

 

14. यहां बच्चे कम तापमान में भी स्कूल जाते हैं। -52 से नीचे पारा गिरने पर ही यहां स्कूल बंद होते हैं।

 

 

 

15. यहां न नल से पानी निकलता है और न गाड़िया चलती हैं। यहां गाड़ियां चलाने के लिए पहले हीट गराज में गाड़ी को रखना पड़ता है।

 

Advertisement


  • Advertisement