Advertisement

विराट कोहली को गुस्सा क्यों आता है?

author image
11:59 am 18 Jan, 2018

Advertisement

टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली इन दिनों गुस्से में हैं। विराट ने सेंचुरियन टेस्ट में मिली हार का ठीकड़ा टीम के साथी बल्लेबाजों पर फोड़ा है। कप्तान कोहली ने सीधे तौर पर टीम इंडिया के बल्लेबाजों को इस नाकामी के लिए दोषी ठहराया है।

दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ सिरीज हारने के बाद विराट कोहली पहली बार संवाददाताओं से मुखातिब हो रहे थे। कोहली का साफ कहना था कि सेंयुरियन में शर्मनाक हार के लिए टीम के वे बैट्समैन जिम्मेदार थे, जिन्होंने बल्ला नहीं चलाया। भारत को दूसरे टेस्ट क्रिकेट मैच के पांचवें दिन 135 रन से हार का सामना करना पड़ा, जिससे उसने तीन मैचों की सीरीज 0-2 से गंवा दी है। इसके बाद से यह चर्चा जोर पकड़ रही है कि क्या भारतीय टीम कागजी शेर बनकर रह गई है।

विराट कोहली को गुस्सा क्यों आता है?

इस संवाददाता सम्मेलन की खास बात यह रही कि विराट कोहली आपे से बाहर दिखे। यह अलग बात है कि वह कूल नहीं दिखते और अग्रेसिव प्रकृति के माने जाते हैं। उन पर सवाल उठ रहा है कि उन्होंने मनमाने तरीके से सेंचुरियन टेस्ट में अपनी टीम तैयार की थी।

जब इस संबंध में पत्रकारों ने उनसे सवाल किए तो कोहली ने कहाः

“आप मुझे बता दें कि बेस्ट प्लेइंग इलेवन क्या होती है। हम उसी के साथ खेलने के लिए तैयार हैं।”

विराट कोहली की शब्दावली से उनके रवैए का पता चलता है। हालांकि, विराट ने यह भी कहा कि हम नतीजों के हिसाब से प्लेइंग इलेवन नहीं चुनते।

दरअसल, विराट से उनकी कप्तानी में खेले गए प्रत्येक टेस्ट मैच में अलग-अलग टीम उतारने के बारे में सवाल किए गए थे। साथ ही उनसे यह भी पूछा गया था कि क्या उन्हें नहीं लगता है कि बहुत अधिक बदलाव ही टीम के हार का कारण है। इसके जवाब में कोहली ने कहा कि टीम इंडिया ने पिछले 34 मैच में से 21 मैच जीते हैं। साथ ही उनका यह भी कहना था कि टीम जहां भी खेलती है अपना सर्वश्रेष्ठ देने की कोशिश करती है।

विराट कोहली बल्लेबाजों के फ्लॉप होने पर निराश दिखे।

विराट ने कहाः

“हम अच्छी भागीदारी करने और बढ़त बनाने में नाकाम रहे। हम हार के लिए खुद जिम्मेदार हैं। गेंदबाजों ने अपनी भूमिका अच्छी तरह से निभाई, लेकिन बल्लेबाजों के कारण टीम को हार का मुंह देखना पड़ा।”

विराट ने विकेट के बारे में भी अपनी राय रखी। उन्होंने कहा कि हमें लगा कि विकेट सपाट है, यह हमारे लिए हैरानी भरा था।

Advertisement


  • Advertisement