Advertisement

वाह रे सिस्टम! पश्चिम बंगाल की इस किताब के मुताबिक फरहान अख्तर ही मिल्खा सिंह हैं

author image
4:07 pm 21 Aug, 2018

Advertisement

स्कूलों में लोग अपने बच्चों को इसलिए भेजते हैं ताकि उन्हें अच्छी और सही शिक्षा मिल सके, लेकिन आए दिन आपने स्कूली किताबों में गलतियां छपने की खबरें सुनी होंगी। इस बार भी एक ऐसा ही ‘प्रिंट एरर’ सामने आया है।

 

नया मामला पश्चिम बंगाल का है। यहां एक स्कूल की किताब में मिल्खा सिंह के बारे में दिए गए एक चैप्टर में असली मिल्खा सिंह की जगह फिल्म अभिनेता फरहान अख्तर की तस्वीर छपी हुई है।

 

 

किसी ने फरहान अख्तर को टैग कर किताब की यह गलती ट्वीट कर दी। इसके बाद फरहान ने इस बात को गंभीरता से लिया और ट्वीट कर इस मुद्दे को उठाया।

 

दरअसल, साल 2013 में आई बायोपिक ‘भाग मिल्खा भाग’ में फरहान अख्तर ने मिल्खा सिंह की भूमिका निभाई थी। शायद इसी धोखे में पब्लिशर ने असली मिल्खा सिंह की जगह फरहान की तस्वीर छाप दी गई। हैरानी की बात तो ये है कि किताब के रिव्यू में भी यह बात पकड़ में नहीं आई।

 

इसे लेकर खुद फरहान अख्तर ने ट्विटर पर आपत्ति जताते हुए शिक्षा मंत्री से इस गलती को जल्द से जल्द सुधारने और इन किताबों को बदलवाने के लिए कहा। उन्होंने ट्वीट कर लिखाः

 

“किताब में स्पष्ट गलती है। मिल्खाजी की जगह गलत तस्वीर लगा दी गई है। इन किताबों को जल्द से जल्द वापस लिया जाए और बदला जाए।”

 

उन्होंने अपने ट्वीट में तृणमूल सांसद डेरेक ओ ब्राइन को भी टैग किया। डेरेक ने इस पर फरहान को ट्वीट करते हुए जवाब दियाः

 

“शुक्रिया फरहान, मिल्खा की गलत तस्वीर छापने की जानकारी देने के लिए। राज्य के शिक्षा मंत्री से इस संबंध में बात की है। उन्होंने बताया कि यह सरकारी स्कूलों की किताब नहीं है। न ही सरकार ने इसे प्रकाशित किया है। ‘निजी प्रकाशन कंपनी का पता लगाया जा रहा है। उन्हें भविष्य के संस्करणों में यह गलती ठीक करनी होगी।”


Advertisement
 

लेकिन ये बात आहत करती है कि साल 1958 के राष्ट्रमंडल खेलों में भारत को स्वर्ण पदक दिलाने वाले मिल्खा सिंह को लेकर इतनी बड़ी चूक हुई।

 

 

अब सवाल ये उठता है मिल्खा सिंह जैसी महान शख्सियत को पहचानने में किसी से भी चूक कैसे हो सकती है। ये घटना निंदनीय है। इसपर लोगों ने भी अपनी नाराजगी जाहिर की।

 

Advertisement


  • Advertisement