कभी अपने ही घर में चोरी करने को मजबूर थे कप्‍तान सुनील छेत्री, फिर मां की एक बात ने बदल दी जिंदगी

author image
6:39 pm 5 Jun, 2018

भारतीय फुटबॉल टीम के कप्तान सुनील छेत्री की भावुक अपील के बाद जिस तरह कई हस्तियों समेत देशवासियों का उन्हें सपोर्ट मिला, वह प्रशंसनीय है। इस स्टार खिलाड़ी ने एक विडियो जारी करते हुए फैन्स से अपील की थी कि वो फुटबॉल देखने के लिए मैदान तक आएं। छेत्री का ये विडियो खूब वायरल हुआ। उन्हें टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली, मास्टर-ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर, बैडमिंटन स्टार सानिया मिर्ज़ा सहित कई हस्तियों का भरपूर साथ मिला।

 

 

हमारे देश में लोग क्रिकेट ज्यादा देखते है। भारतीय क्रिकेटर्स की फैन फॉलोइंग भी यहां जबर्दस्त है, लेकिन फुटबॉल का नाम जब भी आता है तो लोग लियोनेल मेस्सी, नेमार और क्रिस्टियानो रोनाल्डो को फॉलो करते हैं। ऐसे में सुनील छेत्री ने लियोनेल मेस्सी, नेमार और क्रिस्टियानो रोनाल्डो के प्रशंसकों से भावनात्मक अपील करते हुए कहा, “हमें गालियां दो, आलोचना करो, लेकिन भारतीय फुटबॉल टीम को खेलते देखने स्टेडियम में आइए।”

उनकी इस अपील के बाद जो हुआ वो किसी भी भारतीय के लिए गर्व की बात है। देखते ही देखते केन्या के साथ होने वाले मैच के सभी टिकेट बिक गए। मैदान खचाखच दर्शकों से भर गया। फिर इन फुटबॉल खिलाड़ियों ने जो किया वह इतिहास के पन्नों में दर्ज हो गया। भारत ने केन्या को 3-0 से मात दे दी। यकीन मानिए किसी भी खिलाड़ी को जब उसके देशवासियों का सपोर्ट मिलता है तो वो किसी टॉनिक की तरह होता है।

 

 

भारत के बेहतरीन फुटबॉलरों में शुमार सुनील छेत्री ने केन्या के खिलाफ अपने अंतरराष्ट्रीय करियर का 100वां मैच खेला। इसी के साथ वह पूर्व कप्तान बाईचुंग भूटिया के बाद 100 अंतरराष्ट्रीय मैच खेलने वाले देश के दुसरे खिलाड़ी बने। 20 साल की उम्र में अंतर्राष्ट्रीय डेब्यू करने वाले सुनील के लिए यहां तक पहुंचना आसान नहीं रहा।

 




 

उन्होंने अपने कठिन दिनों का जिक्र करते हुए बताया कि वह बचपन में चंद पैसों की खातिर अपने ही घर में चोरी किया करते थे। आज देश के सबसे महंगे फुटबॉलर में गिने जाने वाले सुनील बचपन में चंद पैसों की खातिर चोरी किया करते थे।

 

 

अपने फुटबॉल क्लब बेंगलुरू एफसी से की बातचीत में इससे जुड़ा एक किस्सा उन्होंने शेयर किया। सुनील ने बताया कि एक बार उन्होंने घर पर मां के रखे हुए 50 रुपए चुराए थे।

 

उन्हें चोरी इसलिए करनी पड़ी क्योंकि उन्हें पैसों की सख्त जरूरत थी। मां से पैसे मांगने पर उन्होंने मन कर दिया था। इस वाकये के बारे में बात करते हुए सुनील ने कहाः

 

“पिता साइकिल से मुझे बस स्टॉप छोड़ने जाते थे। उतने ही पैसे देते, जितने की टिकट होती। और मगर मैं कई बार वह पैसे रख लेता और टिकट न लेता था। मैं पैसे चुराता था। मैंने मां से कहा था कि मुझे 50 रुपए चाहिए। उन्होंने मना कर दिया। मैं उसके बाद इतना निराश हुआ कि मैंने घर से 50 रुपए चुरा लिए थे। हालांकि, उन्हें बाद में यह बात पता लग गई थी। मां ने तब मुझे कुर्सी से बांध दिया था और दो घंटों तक मेरी पिटाई की थी।”

 

 

इसके बाद सुनील की मां ने ऐसा कुछ कहा, जिसने सुनील की जिंदगी ही बदल दी। सुनील ने आगे बताया-

 

“दो घंटे बाद मां अपने कमरे में गईं और रोने लगीं। मैं तब बहुत डर गया था। उन्होंने मुझे बुलाया और माफी मांगी। बोलीं कि हम तुम्हारी जरूरतें पूरी नहीं कर सकते, इसलिए हम अपने बेटे को चोर बना रहे हैं। इसी चीज ने मुझे झकझोर दिया था। मुझे समझ आ चुका था कि मैं अब और शरारती, बेवकूफ और बचकाना रवैया नहीं अपना सकता।”



Discussions
Popular on the Web