सऊदी अरब में ड्रोन्स को कपड़े पहनाकर कराया गया फैशन शो, महिलाओं के रैंपवॉक पर है पाबंदी

author image
9:20 pm 9 Jun, 2018

सऊदी अरब को दुनिया के उन देशों में गिना जाता है जहां महिलाओं के अधिकार और आजादी न के बराबर है। वहां महिलाओं पर रूढ़िवादी सोच के चलते कई पाबंदियां लगी हुई हैं। हालांकि, धीरे-धीरे चीजें बदल रही हैं। सऊदी अरब में प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान के ‘विजन 2030’ के अंतर्गत वहां की महिलाओं के अधिकारों और उनकी आजादी को लेकर कदम जरूर उठाये जा रहे हैं।

 

हाल ही का एक मामला जो सामने आ रहा है वो बेहद अजीब है। ये मामला फैशन शो से जुड़ा है। अभी वहां महिलाओं के फैशन शो में रैंपवॉक करने पर मनाही है।

 

 

ऐसे में फैशन शो के आयोजकों ने बिना फीमेल मॉडल्स के शो करने का अनोखा तरीका निकला।रमज़ान के दौरान जेद्दाह शहर के हिल्टन में सालाना आयोजित होने वाले फैशन शो में मॉडल के बजाय ड्रोन्स से रैंपवॉक करवाया गया।

 

जी हां, यहां एक फैशन शो में कपड़ों के प्रदर्शन के लिए मॉडल्स की बजाय ड्रोन्स का इस्तेमाल किया गया। हवा में तैरते ये कपड़े किसी फैशन शो का हिस्सा नहीं, बल्कि हॉरर फिल्म के सीन जैसे लग रहे थे।

 

bbc

 

इस शो का कई विडियो हाल ही में ट्विटर पर डाले गए हैं। इन विडियोज में कपड़े टांगे ड्रोन्स को सैकड़ों लोगों के बीच हॉल में उड़ते देखे जा सकते हैं।

 

विडियो सामने आने के बाद से ही लोगों ने इस पर कई कमेंट्स किए हैं। कई सोशल मीडिया यूजर्स ने इसे ‘भूतिया शो’ करार दिया है।

 

वहीं फैशन शो के आयोजकों में से एक अली नबील अकबर ने अपने दिए गए एक इंटरव्यू में बड़े गर्व से कहा कि ये किसी खाड़ी देश में अपनी तरह का पहला शो है। उन्होंने आगे बताया कि इस स्पेशल शो की तैयारी में करीबन दो सप्ताह का समय लगा।

 

नबील ने ये भी बताया कि ड्रोन के ज़रिए सिर्फ उन्हीं कपड़ों को प्रदर्शित किया गया, जो रमज़ान के पवित्र महीने के लिए उपयुक्त हों।

 

 

सोशल मीडिया पर इस पूरे वाकए को लेकर लोग जहां कई लोग खफा नजर आए कि सऊदी अरब में औरतों को इतना भी हक़ नहीं दिया कि वो रैंप पर चल सकें। वहीं, कई ने ड्रोन इस्तेमाल किए जाने पर सऊदी अरब की जमकर खिंचाई की।




 

 

 

 

 

 

 

 

 

यह कहना गलत नहीं होगा कि यकीनन ये फैशन शो अपने आप में दुनिया का अनोखा फैशन शो रहा।



Discussions
Popular on the Web