Advertisement

पोप ने मुस्लिम, हिन्दू शरणार्थियों के पांव धोकर चूमे; दिया ‘मानव एकता’ का संदेश

author image
9:17 pm 25 Mar, 2016

Advertisement

कैथोलिक धर्मगुरु पोप फ्रांसिस ने भाईचारे की एक बेहतरीन मिसाल कायम की है। उन्होंने साम्प्रदायिक सद्भावना का संदेश देते हुए सभी धर्मों के लोगों मुस्लिम, हिन्दू और कैथोलिक शरणार्थियों के पैर धोए और फिर उन्हें चूमा।

pope

शरणार्थियों के पैर धुलाकर उसे चूमते हुए पोप फ्रांसिस bhaskar

पोप फ्रांसिस ने संपूर्ण मानवजाति को एक ही ईश्वर की संतान के रूप में घोषित किया। पोप ने यह मिसाल ऐसे वक़्त दुनिया के सामने पेश की है, जब ब्रसेल्स में आतंकवादी हमलों के बाद से मुस्लिम और शरणार्थी विरोधी आवाजें मजबूत हुईं हैं।

पोप ने ब्रसेल्स हमले की निंदा करते हुए कहाः

“कुछ लोग इस तरह का काम करके हमारे भाईचारे को खत्म करना चाहते हैं। हम लोग अलग धर्माें और संस्कृतियों से ताल्लुक रखते हैं, लेकिन हम सब भाई हैं और शांति से रहना चाहते हैं।”


Advertisement
पोप ने यह बात ईस्टर वीक मास के दौरान लोगों को सम्बोधित करते हुए रोम के बाहर कासेलनोवो डि पोर्टो में एक शरणस्थली में कही।

पांव धोने की इस प्रथा को ईसा मसीह के बलिदान से पूर्व के रिवाज के तौर पर देखा जाता है। इसे एक सेवा के तौर पर माना जाता है।

पोप जिस समय इस प्रथा का निर्वाह कर रहे थे, उस समय कई शरणार्थियों की आंखें नम हो गई थी।

Advertisement


  • Advertisement