Advertisement

बोरियत दूर करने के लिए इस नर्स ने ले ली 106 मरीज़ों की जान

8:11 pm 11 Nov, 2017

Advertisement

एक नर्स ने महज अपनी बोरियत मिटाने के लिए 106 मरीजों की जान ले ली है। जर्मनी के बर्लिन शहर की यह घटना मानवता को शर्मशार करने वाली है।

चौंकाने वाले मामले में एक पुरुष नर्स ने जानलेवा दवाइयां देकर न केवल 106 लोगों की जान ले ली, बल्कि मानव समाज को सोचने पर मजबूर कर दिया है कि एक इंसान किस हद तक खतरनाक हो सकता है। लोगों की हत्या के लिए जो उसने कारण बताया है, उससे अधिक हैरत हो रही है। नर्स का दावा है कि उसने बोरियत मिटाने के लिए लोगों की हत्याएं की।

41 वर्षीय नील्स होगेल को वर्ष 2015 में गिरफ्तार किया गया था। उस वक्त उस पर दो हत्याओं और दो हत्याओं की कोशिश के आरोप लगे थे। पुलिस को पता चला कि नील्स आईसीयू में मरीजों को नुकसान पहुंचाता था। जांच के शुरू में ही उसके द्वारा 90 लोगों की ह्त्या की पुष्टि हुई थी, जो अब बढ़कर 106 हो गई है।


Advertisement
बीते गुरुवार को पुलिस को 16 और हत्याओं के बारे में पता चला था। 1999 से लेकर 2005 के बीच नील्स ने दो अस्पतालों में काम किया और उसी दौरान उसने इन मौतों को अंजाम दिया। जांच अभी चल ही रही है और ये संख्या और बढ़ सकती है।

फिलहाल, नील्स ने अपनी इन हत्याओं में अपना लिप्त होना कबूल लिया है। उसने कहा है कि वह मरीज को ऐसी दवा देता था, जिससे दिल काम करना बंद कर देता है। ऐसा करके वह उस मरीज रिवाइव करने की कोशिश करता हुआ दिखता था और लोगों के सामने हीरो बन जाता था। ऐसा वो गंभीर मरीजों के साथ करता था। उसकी इस करतूत को एक अन्य नर्स ने देख लिया और रिपोर्ट कर दिया।

नील्स को खुद भी मालूम नहीं कि वह कितने लोगों की जान के साथ खिलवाड़ कर चुका है। बताते चलें कि नील्स को पहले 7 साल और फिर 2015 में उम्र कैद की सज़ा सुनाई जा चुकी है।

Advertisement


  • Advertisement