Advertisement

जिस टीचर को भरे मंच पर मनोज तिवारी ने किया था अपमानित, उसे मिला बेस्ट टीचर का सम्मान

author image
10:23 am 6 Sep, 2018

Advertisement

पिछले साल उत्तर पूर्वी दिल्ली के सांसद मनोज तिवारी ने एक कार्यक्रम के दौरान भरे मंच में एक महिला टीचर को जमकर फटकार लगाई थी।उस शिक्षक का कसूर ये था कि उन्होंने सीसीटीवी कैमरा लगवाने के कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि पहुंचे मनोज तिवारी से गाना गाने की फरमाइश कर दी थी। इस पर मनोज तिवारी इतना भड़क उठे थे कि टीचर पर कारवाई करने तक की मांग के लिए आदेश दे दिए और सबके सामने उन्हें अपमानित किया।

 

 

 

अब उसी महिला शिक्षक को टीचर्स डे के मौके पर सम्मानित किया गया है। उत्तर पूर्वी दिल्ली के यमुना विहार के बी-2 ब्लॉक के निगम स्कूल में पढ़ाने वाली प्राइमरी टीचर नीतू सिंह पंवार को निगम टीचर पुरस्कार दिया गया।

 

ये पुरस्कार शिक्षा निदेशक की ओर से कुल 15 प्राइमरी और एक नर्सरी टीचर को शिक्षक दिवस के मौके पर दिए गए। पुरस्कार पाने वालों शिक्षकों में नीतू पंवार भी शामिल रहीं।

 

 

इस अवार्ड मिलने के बाद नीतू पंवार ने अपनी खुशी जाहिर करते हुए कहा-

 

“मैं पूर्वी दिल्ली नगर निगम का बहुत शुक्रगुजार हूं कि उन्होंने मुझे पुरस्कार दिया। मेरे लिए ये बहुत गर्व की बात है। मैं सभी का बहुत-बहुत धन्यवाद करती हूं और आगे के लिए वादा करती हूं मेरे विद्यालय और देश के लिए जितना हो पाएगा मैं अच्छा काम करती रहूंगी।”


Advertisement
 

हालांकि, जब उनसे मनोज तिवारी वाले विवाद के बारे में सवाल किया गया तो उन्होंने कम शब्दों में आखिर में कहा- ‘हैप्पी टीचर्स डे’।

 

 

गौरतलब है कि पिछले साल इस महिला पर विफरे मनोज तिवारी ने टीचर को फटकार लगाते हुए मंच से उतर जाने का फरमान सुना दिया था। दरअसल, मंच पर स्वागत के बाद तिवारी को संबोधन के लिए बुलाया गया। उसी दौरान टीचर ने मनोज से फरमाइश की कि वह अपने अंदाज में कुछ गुनगुना दें। ये सुनते ही तिवारी को गुस्सा आ गया।

 

इसके बाद उन्होंने सबके सामने माइक पर टीचर को फटकार लगाते हुए कहा-

 

“आपको क्या ऐसा कहना चाहिए। मैं कोई नौटंकी कर रहा हूं। यहां मजाक नहीं हो रहा। आप सांसद को बोलोगे, गाना गाओ। ये तमीज है आपकी, ये गाने का प्रोग्राम है क्या। दो करोड़ रुपये के सीसीटीवी लग रहे हैं और आप कह रहे हैं कि गाना गाओ। इनके खिलाफ कार्रवाई कीजिए। इनको बिल्कुल क्षमा नहीं किया जाना चाहिए। जब इनको पता नहीं कि सांसद से बात कैसे करते हैं तो छात्रों से कैसे बात करते होंगे। सामान्य ज्ञान होना चाहिए। आप टीचर हो कोई सामान्य एंकर ऐसा कहे तो समझ में आता है।”

 

 

Advertisement


  • Advertisement