Advertisement

बुलेट ट्रेन ही नहीं, ये चार हाईस्पीड ट्रेन्स भी भारत में दस्तक देने जा रही हैं

author image
5:06 pm 14 Sep, 2017

Advertisement

जापान के प्रधानमंत्री शिंजो आबे और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज भारत की पहली बुलेट ट्रेन का शिलान्यास कर दिया है। यह ट्रेन मुंबई और अहमदाबाद के बीच चलेगी। अनुमान के मुताबिक, करीबन 500 किलोमीटर का सफर बुलेट ट्रेन से महज दो घंटे में तय किया जा सकेगा।

मोदी सरकार के इस ड्रीम प्रोजेक्ट के 2022 तक पूरा होने की उम्मीद है। इसके अलावा कई और हाईस्पीड ट्रेन प्रोजेक्ट्स हैं, जो भारत आ रहे हैं, जिनमें  से कई प्रोजेक्ट्स पर काम भी शुरू हो गया है। आइए जानते हैं बुलेट ट्रेन समेत उन हाईस्पीड ट्रेन प्रोजेक्ट्स के बारे में जो कई घंटों की दूरी को बहुत कम कर देगा।

बुलेट ट्रेन

सरकार ने कहा है कि 15 अगस्त 2022 तक इस प्रॉजेक्ट को पूरा कर लिया जाएगा। बुलेट ट्रेन की अधिकतम रफ्तार 350 किलोमीटर प्रति घंटे की होगी।  साबरमती रेलवे स्टेशन से बांद्रा- कुर्ला कॉम्पलेक्स मुंबई के बीच 508 किलोमीटर की दूरी 2 घंटा 58 मिनट में तय होगी। मौजूदा समय में अहमदाबाद से मुंबई पहुंचने में 7 से 8 घंटे का समय लगता है।

टैल्गो ट्रेन

ये ट्रेन यात्रा का 25 फीसदी वक्त कम कर देगी। दिल्ली- मुंबई रूट पर अभी तक की सबसे तेज ट्रेन राजधानी है, जो यात्रा पूरा करने में लगभग 16 घंटे का वक्त लेती है। लेकिन टैल्गो के आ जाने से दोनों शहरों के बीच की दूरी निर्धारित समय से घटकर महज 12 घंटे रह जाएगी। स्पेनिश तकनीक से बनी इस ट्रेन का ट्रायल रन यूपी के बरेली और मुरादाबाद के बीच किया जा चुका है।

मैग्लेव ट्रेन


Advertisement
जापान की इस ट्रेन की रफ्तार दुनिया की सबसे तेज ट्रेनों में चलने वाली ट्रेनों के मुकाबले सबसे ज्यादा है। इसकी स्पीड बुलेट ट्रेन से भी कई ज्यादा है। इस ट्रेन की टॉप स्पीड 603 किलोमीटर प्रति घंटा है। मैग्लेव ट्रेन 1.8 किलोमीटर का रास्ता महज 11 सेकेंड्स में पूरा कर लेती है। इस ट्रेन के भारत में चलाये जाने को लेकर रेल मंत्रालय के निर्देशानुसार रेल इंडिया टेक्निैकल एंड इकोनॉमिक सर्विस (आरआईटीईएस) 6 महीने के अंदर प्रोजेक्ट रिपोर्ट तैयार करेगी।

हाइपरलूप

देश में हाइपरलूप ट्रेन बनाने का प्रस्ताव परिवहन मंत्रालय के पास है। अगर परिहवन मंत्री नितिन गडकरी इस प्रस्ताव में सज्ञान लेते हुए इसपर मुहर लगा देते हैं, तो हर दिन 1.44 लाख यात्री इसमें सफर कर सकेंगे। फिलहाल मुंबई से पुणे के बीच इसे चलाए जाने की योजना पर विचार चल रहा है। माना जा रहा है कि हाइपरलूप के जरिए मुंबई से पुणे का सफर महज 25 मिनट में पूरा हो सकेगा।

 

रैपिड रेल ट्रांजिट

गाजियाबाद के रास्ते दिल्ली से मेरठ तक रैपिड रेल का निर्माण कार्य अगले साल मार्च में शुरू होगा। इस ट्रेन की अधिकतम गति 160 किलोमीटर प्रति घंटा, तो वहीँ न्यूनतम 100 किलोमीटर प्रति घंटा होगी। यह कॉरिडोर 92 किलोमीटर लंबा होगा।

Advertisement


  • Advertisement