Advertisement

क्रिकेट जगत के दिग्गजों ने टीम चयन पर विराट कोहली को घेरा, उठाए गंभीर सवाल

author image
8:29 pm 14 Jan, 2018

Advertisement

साउथ अफ्रीका के खिलाफ दूसरे टेस्ट मैच में टीम इंडिया के प्लेइंग इलेवन सिलेक्शन को लेकर कप्तान कोहली पर सवाल उठने लगे हैं। कोहली ने दूसरे टेस्ट के लिए भुवनेश्वर और शिखर धवन को अंतिम 11 में जगह नहीं दी। इससे कई पूर्व क्रिकेटर्स ने टीम चयन पर सवाल उठाए हैं।

सवाल उठ रहे हैं कि एक ऐसा गेंदबाज जिसने पिछले टेस्ट में 6 विकेट लिए हो, उसे अगले ही मैच में ड्रॉप करना कहां तक जायज है। जी हां, यहां बात कर रहें हैं भुवनेश्वर कुमार कुमार की। दूसरे टेस्ट मैच में भुवनेश्वर कुमार की जगह टीम में इशांत शर्मा को शामिल किया गया। वहीं, लोकेश राहुल को शिखर धवन की जगह उतारा गया।

कप्तान कोहली के इस फैसले से न सिर्फ क्रिकेट फैन्स को हैरानी हुई, बल्कि क्रिकेट के कई दिग्गजों ने भी ऐतराज जताया है।

पूर्व विस्फोटक सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग ने टीम चयन पर सवाल उठाते हुए कप्तान कोहली को आड़े हाथों लिया है।

 

 

उन्होंने कहा कि विराट कोहली अगर दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ दूसरे टेस्ट में असफल रहते हैं तो उन्हें खुद को प्लेइंग 11 से बाहर कर लेना चाहिए। सहवाग ने एक टीवी चैनल से कहाः

‘‘शिखर धवन को महज एक टेस्ट में विफल होने के बाद और भुवनेश्वर को बिना किसी कारण के बाहर करने के विराट कोहली के फैसले को देखते हुए अगर वह सेंचुरियन में अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाते हैं तो उन्हें तीसरे टेस्ट की अंतिम एकादश से खुद को बाहर कर लेना चाहिए।’’

 

पूर्व क्रिकेटर सुनील गावस्कर ने भी चयन पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने एक चैनल से बातचीत में कहाः

 


Advertisement
“मेरा मानना है कि शिखर धवन बलि का बकरा बनाया गया है और उसके सिर पर हमेशा तलवार लटकी रहती है। बस एक खराब पारी के बाद उसे टीम से बाहर कर दिया जाता है।”

 

आगे गावस्कर ने भुवनेश्वर को अंतिम ग्यारह से बाहर किये जाने पर हैरानी जताते हुए कहाः

 

“मेरी समझ से परे है कि ईशांत को भुवनेश्वर की जगह क्यों चुना गया। ईशांत टीम में शमी या बुमराह की जगह ले सकता था, लेकिन भुवनेश्वर को बाहर रखना समझ से बाहर है।”

 

पूर्व भारतीय बल्लेबाज लक्ष्मण भी इस फैसले से हैरान थे। उन्होंने कहाः

 

‘‘आज अंतिम एकादश में भुवी को नहीं देखना आश्चर्यजनक था। पहले टेस्ट में उसने नयी गेंद के इस्तेमाल का अपना कौशल दिखाते हुए सबसे ज्यादा विकेट (छह विकेट) चटकाए थे और फिर संयम से खेलते हुए अच्छी बल्लेबाजी भी की थी। क्या इसमें कुछ कमी थी? ’’

 

भुवनेश्वर कुमार और शिखर धवन के अलावा उपकप्तान अजिंक्य रहाणे को भी टीम में जगह नहीं दी गई। ऐसा पहली बार हुआ है कि लगातार दो मैचों में टीम का उपकप्तान नहीं खेला हो, जबकि साउथ अफ्रीका की धरती पर रहाणे का रिकॉर्ड अच्छा रहा है।

गौरतलब है कि सीरीज का पहला टेस्ट मैच भारत 72 रनों से हार गया था। अब सीरीज में वो मेजबान टीम से साउथ अफ्रीका से 0-1 से पीछे है। सीरीज में खुद को बनाए रखने के लिये किसी भी कीमत पर भारतीय टीम सेंचुरियन टेस्ट जीतना चाहेगी। ऐसे में फैंस को यही उम्मीद होगी कि कप्तान विराट कोहली का ये फैसला टीम इंडिया पर भारी न पड़े।

Advertisement


  • Advertisement