Advertisement

चीन में बच्चों के बीच सुपरहिट है इस तरह की पैंट, स्थानीय परंपरा से है नाता

11:30 am 12 Jan, 2018

Advertisement

दुनिया बहुत ही रहस्य-रोमांच से भरी हुई है। दुनिया के अलग-अलग हिस्सों में विभिन्न तरह की परम्पराएं हैं, जिसमें कुछ न कुछ अजीबोगरीब होता रहता है। चीन में बच्चों को ऐसा पैंट पहनाया जाता है, जिसके पिछले हिस्से में बड़ा सा छेद रहता है। इंटरनेट पर ऐसी तस्वीरें लोगों का ध्यान अपनी तरफ खींच रही हैं।

दरअसल, यह चीन का एक पारम्परिक ड्रेस है, जो बच्चों को पहनाया जाता है और इसे ‘कई डांग कू’ कहा जाता है। बाहरी लोगों को यह पोशाक थोड़ा अटपटा लगता है, लेकिन ये बच्चों की सहूलियत को देखकर ही पहनाया जाता है। इस पोशाक के पीछे की कहानी दिलचस्प है।

चीन में शिफ्ट हुए एक वकील ने बताया कि वे बीजिंग के एक महंगे शॉपिंग सेंटर गए तो वहां बच्चे को झुककर पॉटी करते देखकर भौंचक्के रह गए। फिर बच्चे की मां ने पॉटी साफ़ किया। चीन में लोग मानते हैं कि ऐसी पैंट पहनने वाले बच्चे जल्दी वॉशरूम इस्तेमाल करना सीखते हैं। वहीं, डायपर पहनने वाले बच्चों को वॉशरूम जाने की आदत लगते देर होती है।

पैंट के पीछे छेद होने बच्चे आसानी से कहीं बैठ जाते हैं और पॉटी कर लेते हैं। अगर बच्चे गलत जगह पर पॉटी करने के लिए बैठते हैं तो उन्हें रोकते हैं। हालांकि, अब चीन में भी इसका इस्तेमाल कम होता जा रहा है। लेकिन इंटरनेट पर लोगों को ये पोशाक इतने पसंद आ रहे हैं कि बकायदा फ़ोरम बनाए जा रहे हैं।


Advertisement
बता दें कि चीन में तीन-चार महीने की उम्र से ही बच्चों को बाथरूम में जाना सिखाया जाता है, जबकि पश्चिमी देशों में एक-डेढ़ साल की उम्र से। इसका नुकसान यह है कि जगह-जगह बच्चे पॉटी करते बच्चे दिखाई देंगे। लिहाजा सार्वजनिक जगहों पर गंदगी और बदबू फैली रहती है, जिससे बीमारी होने का खतरा होता है। इस मामले में चीन के गांवों की स्थिति बहुत ही खराब है।

दुनिया भर में इस बात पर बहस शुरू हो चुकी है कि ‘कई डांग कू’ का इस्तेमाल पर्यावरण के लिए अच्छा है या नहीं! कई लोगों का मानना है कि इसके इस्तेमाल से कई टन कूड़े का खतरा कम हो रहा है। यूरोपीय देशों में भी अब कपड़े के डायपर पहनाने पर जोर दिया जाता है। वैसे डायपर के इस्तेमाल को अब स्टेटस सिंबल से जोड़कर भी देखा जाने लगा है।

वहीं चीन के डॉक्टर भी डायपर को ही बेहतर समझते हैं, बशर्ते उन्हें जल्दी-जल्दी बदला जाए!

Advertisement


  • Advertisement