Advertisement

‘किंगडम ऑफ दीक्षित’ पर अमेरिकी नागरिक ने उठाया सवाल, इस कहानी में बहुत झोल है

author image
7:51 pm 17 Nov, 2017

Advertisement

कुछ दिन पहले आपने खबर पढ़ी ही होगी कि इंदौर के रहने वाले सुयश दीक्षित नाम के एक व्यक्ति ने सूडान और मिस्त्र के बीच 800 वर्ग मील के बीर ताविल नाम के क्षेत्र पर अपना झंडा लगाकर उसे ‘किंगडम ऑफ दीक्षित’ घोषित किया है।

 

सुयश ने अपने इस नए देश का ऐलान फेसबुक के जरिए किया था, जिसमें उन्होंने अपनी पूरी कहानी बताते हुए तस्वीरें भी साझा की थी। फिर यह खबर देखते ही देखते सुर्ख़ियों में छा गई।

 

Posted by Suyash Dixit on 7 ನವೆಂಬರ್ 2017

 

हालांकि, इस कहानी में एक नया मोड़ आ गया है। अमेरिका के रहने वाले जेरेमिया हीटन नाम के एक शख्स ने कहा कि वह पहले से ही उस जगह के मालिक हैं, जिसे सुयश अपना बता रहे हैं।

 

हीटन का दावा है कि उन्होंने पहले ही खुद को बीर ताविल का राजा और अपनी बेटी को उसकी राजकुमारी घोषित किया हुआ है।

हीटन साल 2014 में बीर ताविल गए थे और वहां अपना दावा किया था। इस जगह को उन्होंने ‘किंगडम अॉफ नॉर्थ सूडान’ नाम दिया था।

@KingNorthSudan नाम के ट्विटर हैंडल से हीटन ने सिलसिलेवार ट्वीट कर सुयश के दावों को झूठा का करार दिया। उन्होंने लिखा कि सुयश के लिए इजिप्ट की सेना की अनुमति के बिना बीर ताविल की यात्रा करना असंभव था। उन्होंने एक के बाद एक कई ट्वीट्स किए और सुयश पर इल्जामों की बौछार लगा दी।

उन्होंने लिखाः

“तुम झूठे हो। तुमने अपने परिवार को भी अपमानित किया है। तुम्हारे लिए इजिप्ट की सेना की अनुमति लिए बिना बीर ताविल की यात्रा करना असंभव था। तुमने इस समस्या के लिए मुझसे मदद मांगी थी। तुमने अपनी इस यात्रा के बारे में झूठ बोला है।”

इसके साथ ही उन्होंने सुयश के साथ हुई अपनी बातचीत का स्क्रीनशॉट भी ट्विटर पर  डाला, जिसमें सुयश उनसे यात्रा को लेकर मदद करने का अनुरोध कर रहे हैं।

आगे वह लिखते हैं :

 


Advertisement
“सुयश ने बीर ताविल की यात्रा में जाने के लिए मदद के लिए मुझसे संपर्क किया था।  उन्हें इजिप्ट से जाने की परमिशन नहीं मिली और उन्हें मेरी मदद चाहिए थी।  मैंने उन्हें बताया कि नियमों में बदलाव के कारण एेसा नहीं हो सकता, क्योंकि लेक नासेर को दो क्षेत्रों में बांट दिया गया है और बीर ताविल तक जाने के लिए कोई नाव सेवा भी नहीं है।”

 

वह यहीं नहीं रुके। उन्होंने मीडिया के सामने सुयश की यात्रा की सच्चाई क्या है इसे रखने की बात कही।

“मैं जल्द ही मीडिया को बीर ताविल की तुम्हारी फेक यात्रा के बारे में सूचित करूंगा। अपनी वेबसाइट को बंद करो और झूठे दावे करना बंद करो।  मेरे पास सैटेलाइट तस्वीर हैं, जहां तुमने बीर ताविल की यात्रा करने का दावा किया है।”

आपको बता दे कि सुयश ने अपने ‘किंगडम ऑफ़ दीक्षित’ में लोगों को शामिल होना का न्योता भी दे दिया था। उन्होंने एक वेबसाइट तैयार कर दी थी, जहां इससे जुड़ी जानकारी डाली हुई थी।

हालांकि, इस पूरी कहानी में एक और ट्विस्ट तब आया जब जेरेमिया हीटन ने अपने ये सभी ट्वीट डिलीट कर दिए, जिन पर वह सुयश पर जमकर निशाना साध रहे थे।

 

इन ट्वीट्स को डिलीट करने के बाद उन्होंने दूसरे ट्वीट किए, जिसमें उन्होंने सुयश को टैग कर उन्हें अच्छे दिल वाला आदमी बताकर सम्बोधित किया। जी हां, आपने बिलकुल सही सुना, दोनों के बीच इस मामले को लेकर अब सुलह हो गई है। दोनों के बीच ट्विटर के जरिये शब्दों का आदान प्रदान हुआ।

हीटन ने लिखाः

“सुयश दीक्षित अच्छे इंसान हैं और बीर ताविल में पिछले तीन वर्षों में किंगडम अॉफ नॉर्थ सूडान ने जो काम किया है, उन्होंने उसे सराहा है। उन्होंने उत्तरी सूडान प्रौद्योगिकी केंद्र के प्रबंधन के प्रयासों का नेतृत्व करने के लिए सहमति जताई है। सुयश एक अच्छे टेक्नॉलजी लीडर हैं।”

वहीं, सुयश ने लिखा कि “मेरी @kingnorthsudan से बातचीत सकारात्मक रही। अब हम दोनों एक ही पेज पर हैं और काफी बेहतर आइडिया एक दूसरे के साथ शेयर किए हैं। जल्द उस बारे में लिखूंगा।”

 

Advertisement


  • Advertisement