जाकिर नाइक ने खुद को बताया शांति दूत, लेकिन आत्मघाती हमलों को ठहराया जायज

author image
3:58 pm 15 Jul, 2016

अपने भड़काऊ धार्मिक भाषणों से विवादों में घिरे मुस्लिम धर्म गुरू ने खुद को शांति दूत बताया, लेकिन इस्लामिक आतंकवादियों द्वारा किए जा रहे आत्मघाती हमलों को भी जायज ठहराया है।

यही नहीं, खुद पर हो रही जांच से घबराए जाकिर नाइक ने मुस्लिम कार्ड भी खेला है। उसने आरोप लगाया कि उसके मुसलमान होने की वजह से पीस टीवी को भारत सरकार ने लाइसेन्स देने से इन्कार कर दिया था।

नाइक ने आरोप लगाया कि उसका मीडिया ट्रायल किया जा रहा है।

शुक्रवार की सुबह सऊदी अरब के मदीना से स्काइप के जरिए जाकिर नाइक ने एक प्रेस कॉन्फ्रेन्स को संबोधित किया। इस दौरान उसने कहा कि इस्लाम में निर्दोष लोगों की हत्या हराम है, लेकिन युद्ध के दौरान कमांडर के कहने पर आत्मघाती हमला जायज है।


गौरतलब है कि ढाका कैफे पर आतंकवादी हमलों में शामिल लोगों के जाकिर नाइक से प्रेरित होने की बात कही गई थी। इसके बाद ही बांग्लादेश ने नाइक के पीस टीवी पर प्रतिबंध लगा दिया है।

बांग्लादेश सरकार ने भारत सरकार से गुजारिश की थी कि जाकिर नाइक पर लगाम लगाई जाए। इसके बाद भारत में जाकिर नाइक के तकरीरों की सघनता से जांच चल रही है।

प्रेस कॉन्फ्रेन्स के दौरान संवाददाताओं द्वारा पूछे गए एक प्रश्न के उत्तर पर नाइक ने कहा कि उसने किसी आतंकवादी को प्रेरित नहीं किया है। केरल के इस्लामिक स्टेट के संदिग्धों से मिलने के बारे में पूछे जाने पर नाइक ने कहा कि वह हर महीने हजारों से लोगों से मिलता है और सबसे यह नहीं पूछा जा सकता है कि तुम कौन हो, कहां से आए हो या क्या करते हो।

पीसी टीवी के बारे में पूछे जाने पर जाकिर नाइक ने बड़ी चालाकी से मुस्लिम कार्ड खेला। उसने कहा कि मुसलमान होने की वजह से उसके टीवी चैनल को भारत सरकार ने लाइसेन्स देने से इन्कार कर दिया।

नाइक ने कहा कि पिछले 7-8 दिनों में उससे किसी भी अधिकारी ने संपर्क नहीं किया है। उसने किसी भी जांच में भारत सरकार के साथ सहयोग की बात कही है। जाकिर नाइक ने दावा किया कि वह जांच नहीं भाग रहा है।

जाकिर नाइक से जब भारत में मुसलमानों की संख्या और उनकी स्थिति के बारे में पूछा गया तो उसके पास इसका कोई जवाब नहीं था। रिपोर्टर ने जब उससे इसके बारे में बार-बार पूछा तो उसने रिपोर्ट पर अभद्रता का आरोप जड़ दिया।

Discussions



TY News