ये हैं दुनिया के सबसे खुशहाल इंसान, वैज्ञानिक शोध में हुआ साबित

author image
6:09 pm 25 Oct, 2016


आज की इस भागदौड़ जिंदगी में इंसान खुश रहना भूल गया है। तमाम जद्दोजहद करते हुए वह बस आगे बढ़ना चाहता है। हमारी भाषा में कहे तो आज का इंसान ‘मटेरियलिस्टिक’ होता जा रहा है। इस कारण वह ख़ुशी के असल भाव को जीना भूलता जा रहा है।

लेकिन दुनिया में एक ऐसा इंसान है, जिसे दुनिया के सबसे खुश इंसान का तमगा हासिल है। वैज्ञानिकों के अनुसार तिब्बत के रहने वाले 69 वर्ष के बौद्ध संत मैथ्यू रिचर्ड दुनिया के सबसे खुशहाल व्यक्ति हैं। मूल रूप से फ्रांस के निवासी मैथ्यू रिचर्ड के दिमाग का 12 साल तक अध्ययन किया गया। अध्ययन में जो सामने आया उसने वैज्ञानिकों को चौका दिया।

विस्कॉनसिन यूनिवर्सिटी के एक मनोवैज्ञानिक डेविडसन ने मैथ्यू के दिमाग की 256 सेंसर्स की मदद से जांच की। जांच में पाया गया कि ध्यान के दौरान मैथ्यू के दिमाग में अस्वाभाविक रूप से एक प्रकाश मौजूद होता है। साथ ही दिमाग से चेतना, ध्यान, सीखने की क्षमता और स्मृति से जुड़ी गामा तरंगों के एक स्तर का उत्पादन होता है, जो मैथ्यू को असामान्य रूप से खुश रहने की क्षमता प्रदान करता है।

इस संबंध में मैथ्यू का मानना है कि कोई भी इंसान खुश रह सकता है, बशर्ते हर कोई ‘मैं, मैं और सिर्फ मैं’ कहना छोड़ दे और स्वार्थी न बने। प्रतिस्पर्धी सोच नकारात्मकता, तनावपूर्ण स्थिति की ओर ले जाती है।


हर किसी को उदारवादी रवैया अपनाने की जरूरत है, इसका मतलब यह नहीं कि किसी दूसरे को आप अपना फायदा उठाने दें। खुश रहना एक कला है, जिसे मैडिटेशन के जरिए हासिल किया जा सकता है।

मैथ्यू खुश रहने का मंत्र देते हुए कहते हैं कि हर दिन 20 मिनट अच्छे विचारों, अपनी तकलीफों, दुःख-दर्द को भूलने का प्रयास करे। ऐसा नियमित करने से 2 हफ्तों में ही खुद में सकारात्मक बदलाव महसूस होगा।

अगर कोई भी 50 साल तक मैथ्यू के बताए गए इस अभ्यास को करता है तो वह  मैथ्यू की तरह खुशहाल बन सकता है। इस तथ्य की पुष्टि खुद मनोवैज्ञानिकों ने की है।

Popular on the Web

Discussions



  • Viral Stories

TY News