अमेरिका की NSG के सदस्यों से अपील, भारत की सदस्यता का करें समर्थन

author image
2:53 pm 17 Jun, 2016


अमेरिका ने परमाणु आपूर्ति समूह (NSG) के सदस्य देशों से NSG में भारत की सदस्यता के लिए समर्थन करने का अनुरोध किया है।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता जॉन किर्बी ने एनएसजी के सदस्य देशों से आहवान करते हुए कहा कि जब अगले सप्ताह भारत का आवेदन समूह के समक्ष आए तो उसका समर्थन करें।

जॉन किर्बी ने यह बात अपने एक दैनिक संवाददाता सम्मेलन में कही। उन्होंने कहा:

“अमेरिका ने परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह (एनएसजी) के सहयोगी देशों से यह अपील की है कि जब भी एनएसजी की समग्र चर्चा हो तब इसके सहयोगी देश भारत के आवेदन का समर्थन करें, जो संभवत: अगले हफ्ते होगी।”

John Kirby

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता जॉन किर्बी photo

अमेरिका NSG में भारत की सदस्यता का समर्थन कर रहा है। हाल ही में अमेरिका दौरे के दौरान प्रधानमंत्री मोदी की बराक ओबामा से मुलाकात हुई थी। राष्ट्रपति ओबामा ने 48 सदस्यीय समूह में भारत की दावेदारी का समर्थन किया था। किर्बी ने अागे एक प्रशन के जवाब में कहा:

‘‘फिलहाल मैं यह नहीं बता सकता कि यह कैसे होगा और न ही मैं कोई अटकल लगा सकता हूं कि किस तरह से इसे किया जाएगा, लेकिन हमने यह साफ किया है कि हम उनके (भारत के) आवेदन का समर्थन करेंगे।’’


इससे पहले अमेरिकी विदेश मंत्री जॉन कैरी ने भारत को सदस्यता दिए जाने का विरोध करने वाले देशों को पत्र लिखकर अनुरोध किया कि वे NSG में भारत की सदस्यता के लिए आम सहमति पर रूकावट न डालते हुए, इस पर सहमति जताए।

john kerry

अमेरिकी विदेश मंत्री जॉन कैरी reutersmedia

अमेरिका का यह बयान ऐसे समय में अाया है जब चीन की आधिकारिक मीडिया ने कुछ दिन पहले ही NSG में भारत के प्रवेश पर चिंता जताते हुए कहा था कि भारत के प्रवेश से दक्षिण एशिया में सामरिक संतुलन बिगड़ेगा।

NSG 48 देशों का एक ऐसा समूह है, जो परमाणु संबंधी विषयों पर नज़र रखता है। NSG आम सहमति के आधार पर कार्य करता है यदि किसी भी एक सदस्य देश ने भारत के खिलाफ वोट किया तो भारत को सदस्यता हासिल नहीं हो पाएगी।

Discussions



TY News