क्या भारत में ‘एक देश, एक कानून’ लागू होना चाहिए?

5:48 pm 15 Oct, 2016


केन्द्र सरकार देश भर में 'एक देश, एक कानून' को लाने के लिए समान नागरिक संहिता लागू करने के पक्ष में है। समान नागरिक संहिता यानी यूनिफॉर्म सिविल कोड एक निष्पक्ष कानून है, जो सभी धर्मों के लोगों के लिए समान रूप से लागू होता है। इसका अर्थ है भारत में रहने वाले हर नागरिक के लिए एक समान कानून होना, चाहे वह किसी भी धर्म, पंथ या जाति का क्यों न हो। समान नागरिक संहिता के तहत शादी, तलाक और जमीन-जायदाद के बंटवारे में सभी धर्मों के लिए एक ही कानून लागू होगा। क्या भारत में समान नागरिक संहिता लागू किया जाना चाहिए? आपको क्या लगता है?

Discussions