9 तरह के सिनेमा-प्रेमी मित्र जो आपको सिर्फ़ हिन्दुस्तान में ही मिलेंगे

author image
3:20 pm 21 Aug, 2015

सिनेमा किसे पसन्द नहीं है। सिनेमा देखना एक ऐसा अनुभव है, आनन्द है, जो हम जब चाहें जहां चाहें ले सकते हैं। सिनेमा किताबों की तरह होते हैं। विशेषकर भारत में हम जिस तरह किताबें पढ़ते हुए बड़े होते हैं, उसी तरह फिल्म देखते हुए बड़ा होना पसन्द करते हैं। कभी-कभी हम अपनी जिन्दगी फिल्मों के जरिए जीते हैं। मसलन, हम अपनी असली जिन्दगी में किसी बुरे आदमी को पीट नहीं सकते, तो फिल्म में विलेन को मार खाते देखकर मजा आ जाता है। इसी तरह हम अपनी असली जिन्दगी में प्यार का इजहार नहीं कर पाते तो रोमान्टिक फिल्में देखकर हम इस तरह का कुछ कर गुजरने का साहस जुटा सकते हैं।

लेकिन फिल्में देखने वाले सभी लोग एक जैसे नहीं होते। हम यहां अलग-अलग तरह के सिने-प्रेमियों का जिक्र करने जा रहे हैं।

1. हॉलीवुड का भक्त

इस तरह के सिनेमा प्रेमियों को हॉलीवुड की फिल्में बेहद पसन्द आती हैं। सच पूछें तो वे इसके बिना रह नहीं सकते। उन्हें हॉलीवुड की फिल्में इतनी ज्यादा पसन्द होती हैं कि वे अमेरिकी बनना भी पसन्द कर लें। इन सिनेमा प्रेमियों को एडम सैन्डलर की बेवकुफाना कॉमेडी फिल्में बेहद जंचती हैं, लेकिन वे तुषार कपूर को बेवकूफ कहते हैं।

2. टीवी देखकर समय गंवाने वाला

इस तरह का सिनेमा प्रेमी अपना घर छोड़कर कहीं बाहर नहीं निलकता। वह आपको हमेशा अपनी टीवी के सामने बैठा मिलेगा। क्योंकि उसे लगता है कि उसकी पसन्दीदा फिल्में कहीं निकल न जाए। ऐसा व्यक्ति घर में बना हुआ पॉपकॉर्न खाते-खाते टीवी पर सिनेमा देखना पसन्द करता है। वह सेन्सर से बाहर के जीवन में यकीन नहीं रखता। मेरा यकीन मानिए, इस तरह का व्यक्ति अपने जीवन-काल में देल्ही बेली जैसी फिल्में नहीं देख पाता, क्योंकि इस तरह की फिल्में टीवी पर नहीं दिखाई जा सकतीं।

3. पैसा खर्च करने वाला

इस तरह का सिनेमा प्रेमी व्यक्ति थियेटर में फिल्में देखना पसन्द करता है। फर्स्ट डे – फर्स्ट शो। उसे टिकट की ऊंची कीमतों से कोई फर्क नहीं पड़ता। यही नहीं, वह महंगे पॉपकॉर्न भी खाता है। इस तरह के व्यक्ति के लिए थियेटर सब कुछ होता है। जी हां, सबकुछ। वह इस अनुभव को घर में बैठकर नष्ट नहीं कर सकता।

4. भाई का फैन

यह कहना कि सलमान खान के चाहने वाले उनकी पूजा करते हैं, गलत बयानी होगी। दरअसल, सलमान के फैन्स न केवल उनकी तरह जीते हैं और सांस लेते हैं, बल्कि भाई जब अपनी शर्ट उतारते हैं, तो वे उनकी तरह ही सीटी भी बजाते हैं। न सिर्फ शर्ट उतारने पर, भाई के डान्स करने पर भी माहौल कुछ इसी तरह का होता है। इस तरह के सिनमा प्रेमियों को हैन्डल करना आसान नहीं होता। इन्हें सिर्फ भाई ही हैन्डल कर सकते हैं। भाई।

5. साथ देकर पछताने वाला


कुछ सिने प्रेमी अनिच्छा से भरे होते हैं। इन्हें फिल्मों में अतिनाटकीयता पसन्द नहीं होती, इसलिए ये फिल्में देखना पसन्द नहीं करते। हालांकि, एक अच्छे दोस्त की तरह वे फिल्म देखने के दौरान अपने दोस्त का साथ जरूर देते हैं। यह अलग बात है कि अगले ही दिन उन्हें इसका पछतावा भी होता है। अगर वे इस बात की शिकायत करने लगें, तो आपको आश्चर्य नहीं करना चाहिए।

6. डींगे हांकने वाला

इस तरह के सिनेमा प्रेमी जताते हैं कि वे काफी विशिष्ट हैं और उन्होंने कुछ खास फिल्में देख रखी हैं। वे डींगें हांकते हैं। फिल्मों के बारे में उनकी बातें आडम्बरों से भरी होती हैं। ये फिल्मों के बारे में कुछ इस तरह बात करेंगे कि जैसे कि आपने भी इसे देखा हो।

7. समीक्षा पर विश्वास करने वाला

इस तरह के सिनेमा प्रेमी जब तक फिल्म की समीक्षा न पढ़ लें, तब तक देखने नहीं जा सकते। चाहे, धरती इधर से उधर हो जाए। इस तरह के व्यक्ति के लिए तरण आदर्श एक घोषित शत्रु हैं और बाकी अन्य लोग बेवकूफ। ऐसे सिनेमा प्रेमी ट्रेलर देखकर किसी फिल्म के बारे में अपनी धारणा नहीं बनाते, बल्कि समीक्षा पढ़कर तय करते हैं।

8. आंसू बहाने वाला

इस तरह के सिनेमा प्रेमी बात-बात पर टेसुए बहाने लगते हैं। फिल्म को देखने के दौरान ये इस तरह भावनाओं में बह जाते हैं कि इनके आंसू निकल आते हैं। ‘तारे जमीन पर’ में जब दर्शिल सफारी को उसके मां-बाप होस्टल में छोड़ने गए थे तब तो वे रोए ही थे। उनकी रुलाई तब भी नहीं रुकी थी, जब ‘गैंग्स ऑफ वासेपुर’ में रामाधीर सिंह की मौत हुई थी।

9. उन्मादी फैन

सेट मैक्स पर ‘मेरी जंग- वन मैन आर्मी’ और ‘रोबोट’ जैसी फिल्में अगर हजारों बार दिखाई गई हैं, तो इसकी वजह ऐसे सिने प्रेमी ही हैं। जी हां, इन्हें साउथ की रिमेक फिल्में पसन्द हैं। अल्लू अर्जुन हो या चिरंजीवी या फिर कमल हासन, इन्हें कोई फर्क नहीं पड़ता। इन अभिनेताओं को ये भगवान मानते हैं और अगर इन्हें कुछ भी होता तो ऐसे सिने प्रेमियों को व्यक्तिगत रूप से दुःख पहुंचता है।

क्या आपको लगता है कि हमने कुछ सिने प्रेमियों को छोड़ दिया है। अगर हां, तो जरूर बताइए। कमेन्ट बॉक्स के माध्यम से।

Discussions



TY News