तृणमूल की रैली से कोलकाता में जनजीवन अस्तव्यस्त, यातायात ठप

author image
2:50 pm 21 Jul, 2016

शहीद दिवस के उपलक्ष्य में कोलकाता में आज आयोजित होने वाली रैली से जनजीवन अस्तव्यस्त हो गया है। उत्तर कोलकाता से सेन्ट्रल एवेन्यू से लेकर मध्य कोलकाता के धर्मतल्ला इलाके तक यातायात पूरी तरह ठप रहा।

वहीं, दक्षिण कोलकाता और शहर के अन्य इलाकों में भी कमोवेश एक जैसी ही स्थिति रही। मध्य कोलकाता के शहीद मीनार मैदान में होने वाली इस रैली में भाग लेने के लिए राज्य के अलग-अलग इलाकों से तृणमूल समर्थक कोलकाता पहुंचे हैं।

एक अनुमान के मुताबिक, इस रैली में करीब 5 लाख लोगों के भाग लेने की संभावना है।

गौरतलब है कि जब ममता बनर्जी युवा कांग्रेस की अध्यक्ष थीं, तब 21 जुलाई 1993 को उन्होंने तत्कालीन ज्योति बसु की सरकार के खिलाफ राइटर्स बिल्डिंग अभियान छेड़ा था। भीड़ के आगे बढ़ने पर पुलिस ने फायरिंग की, जिसमें 13 युवा कांग्रेस कार्यकर्ताओं की मौत हो गई। इस घटना के बाद से ही प्रत्येक 21 जुलाई को ममता बनर्जी शहीद दिवस का आयोजन करती रही हैं।

ममता बनर्जी के राजनीतिक करियर की यह एक महत्वपूर्ण परिघटना रही है। वर्ष 1998 में कांग्रेस पार्टी से अलग होने के बावजूद ममता ने तृणमूल कांग्रेस के झंडा तले शहीद दिवस का पालन करना जारी रखा है।

कोलकाता पुलिस के अधिकारियों के मुताबिक, कुल 28 सौ अतिरिक्त पुलिसकर्मियों को यहां सुरक्षा के लिए तैनात किया गया है। करीब 200 महिला पुलिसकर्मियों की तैनाती की गई है। मंच व इसके आसपास के इलाकों में निगरानी के लिए 52 से अधिक सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं।

पूरे इलाके पर निगरानी के लिए पुलिस ने पांच वाच टावर बनाए हैं, जिसके जरिए संदिग्ध लोगों या गतिविधियों पर नजर रखी जाएगी।

यहां रही रैली से जुड़ी कुछ तस्वीरें।

 


 

 

 

 

फोटोः संदीप ठाकुर/ Suno

Discussions



TY News