इस ग्रेजुएट लड़की ने समाज की सोच बदलने के लिए खोल दी चाय की दुकान

author image
11:59 am 16 Apr, 2016


चाय की दुकान या थड़ी पर अक्सर लड़कों की भीड़ देखी होगी। पढ़ने वाले हो या नौकरीपेशा, दोस्तों के साथ गप्पे मारते, चाय पर चर्चा करना, लड़को के दिनचर्या का अभिन्न हिस्सा रहा है। वही इस दकियानूसी सोच वाले समाज में ऐसी जगहों पर लड़कियों का आना समाज को हमेशा ही खटका है। लेकिन राजस्थान की एक बेटी की अनोखी सोच ने इन सामाजिक भेदभाव को चुनौती दी है।

तो आइए जानते हैं कि उदयपुर की प्रिया सचदेव ने आख़िर ऐसा क्या कर दिया कि उसके मोहल्ले की औरतों ने यहाँ तक कह दिया कि एक लड़की होकर ऐसा काम करना शोभा देता है क्या?

13015530_1040734472673486_3332986430953221182_n

दरअसल कॉमर्स से ग्रेजुएट हुई प्रिया सचदेव ने उदयपुर में ‘थ्री एडिक्शन’ नाम की चाय की थड़ी खोली है जहाँ जाकर लड़कियाँ अब बिंदास खड़ी रहकर चाय की चुस्कियों के साथ-साथ नाश्ते और खेल का मज़ा उठा सकती हैं

प्रिया हमेशा से ही कुछ अलग करना चाहती थी अपने इस ‘थ्री एडिक्शन’ के आइडिया के बारे में प्रिया बताती हैं-

“जब कभी हम लड़कियों को चाय पीने की इच्छा होती थी, तो किसी चाय की दुकान पर हम किसी लड़के के जरिए ही ऑर्डर दे सकते थे तब यहीं से यह आइडिया आया कि ऐसा कोई अड्डा होना चाहिए, जहाँ लड़कियाँ आराम से आकर चाय के साथ अन्य जलपान और खेल का लुत्फ उठा सकें

12321366_1030828576997409_1314324915595985089_n

चाय की चुस्की के साथ किताब पढ़ने का अलग मज़ा

लड़कों के शोर-शराबे और फब्तियों से दूर यह जगह लड़कियों को ख़ासा पसंद आ रही है यहाँ आकर लडकियां न केवल दिल खोल कर गपशप कर सकती हैं बल्कि आदर्श व्यक्तियों की किताब और नॉवेल्स के साथ उन्हें यहाँ फ्री वाई-फाई की सुविधा भी मिलती है ख़ास बात यह है कि यहाँ आने की इजाज़त सिर्फ़ लड़कियों को ही है वहीं यहाँ इनडोर गेम्स जैसे कैरम, लूडो, सतरंज आदि खेलों का मज़ा भी उठा सकते हैं

l_three-addictions-570c9512ebdee_l

मध्यम वर्गीय परिवार से ताल्लुक रखने वाली प्रिया की खुद की एक इवेंट कंपनी थी लेकिन जब कुछ नया करने की चाह ने राह बदली, तो समाज के ठेकेदारों ने जम के विरोध किया

“मेरी कोशिश है कि मैं लड़कियों के लिए सबसे बेहतरीन और सुरक्षित अड्डा उपलब्ध कराऊँ जहाँ वो कुल्हड़ में चाय का लुत्फ उठा सकें और यह मुझे हर चीज़ से ज़्यादा खुशी देती है


priya4

लेकिन यह सपना पूरा करना इतना आसान भी नही था। प्रिया ने दिसंबर 2015 में पहली बार जब चाय की थड़ी लगाई तो प्रिया को कई लोगों के विरोध का सामना करना पड़ा। महिलाओं ने ताना दिया कि लड़कियों को ठेले लगाना शोभा नहीं देता।

यही नहीं प्रिया को पुलिस का भी सामना करना पड़ा लेकिन प्रिया अपने सपने के लिए अड़ी रही जब प्रिया ने एक सहायक साथ रखा तो लोगों ने उसे भी धमकी देकर भगा दिया लेकिन प्रिया पीछे नही हटी जब लड़कियों की तादाद बढ़ने लगी तब सबके मुंह पर खुद ही ताले लग गए

1526903_586196971460574_628054919_n

वहाँ के एक स्थानीय कॉलेज के हॉस्टल में रहने वाली छात्रा प्रिया के इस प्रयास के बारे में कहती हैं-

“प्रिया हमारी दोस्त की तरह हैं जब कुछ महीने पहले उन्होने यह दुकान खोली थी तो हम सब को बहुत खुशी हुई वैसे एक लड़की के लिए चाय की दुकान खोलना बहुत साहस की बात है इसलिए हमे उन पर गर्व है

three-addictions

हम अक्सर देखते हैं कि कई कार्यक्रम महिलाओं को सशक्त करने के लिए आयोजित किए जाते है। लेकिन वहीं जब प्रिया की ही तरह कोई लड़की खुद को सशक्त करने की कोशिश करती है, तो उसे सामाजिक आपत्तियों का सामना करना पड़ता है। मेरा मानना है कि समाज के इस पाखंड को छुपाया नहीं जा सकता। यह बदलाव का वक़्त है। भारत की इन बेटियों के आगे बढ़ने का वक़्त है।

फोटो क्रेडिट: फ़ेसबुक

Popular on the Web

Discussions