सात साल की इस मुस्लिम बच्ची को कंठस्थ है पूरी गीता

author image
4:13 pm 18 Feb, 2016

मेरठ में रहने वाली सात साल की नेत्रहीन बच्ची रिदा जेहरा को गीता पूरी तरह कंठस्थ है। वह सस्वर हिन्दुओं के पवित्र ग्रंथ गीता के श्लोक का पाठ कर सकती है। मुस्मिल परिवार में जन्मीं जेहरा पिछले तीन साल से आवासीय ब्लाइन्ड स्कूल में पढ़ रही हैं।

वह ब्रेल के जरिए सीख रही है। जेहरा से बस पूछने भर की देर है, वह दोनों हाथ जोड़कर बिना हिचकिचाए गीता का पाठ शुरू कर देती है।

एक रिपोर्ट के मुताबिक, ब्रिजमोहन स्कूल में पढ़ने वाली जेहरा के स्कूल टीचर उसे पढ़कर याद कराते हैं। जेहरा कहती है कि उसे प्रार्थना करना पसन्द है। चाहे गीता पढ़कर हो या फिर कुरान पढ़कर।

इस स्कूल के प्राध्यापक प्रवीण शर्मा के मुताबिक, जेहरा के गीता वाचन की शुरूआत वर्ष 2015 में हुई, जब उन्हें पता चला कि शहर में गीता प्रतियोगिता का आयोजन होने जा रहा है।

शर्मा कहते हैंः


पहले तो मैनें खुद अलग-अलग पंडितों की मदद से सीखा कि गीता का पाठ कैसे करते हैं। फिर मैनें अपने छात्रों को इस प्रतियोगिता के लिए तैयार करना शुरू किया। जेहरा के पास इसकी ब्रेल प्रति नहीं थी, लेकिन जो कुछ भी उसे सिखाया गया, उसने शब्दशः याद कर लिए।

ब्रिजमोहन स्कूल में 30 छात्र-छात्राओं को शिक्षा मिलती है। यहां के पांच अध्यापकों में 2 नेत्रहीन हैं।

दिल्ली में रहने वाले जेहरा के पिता रईस हैदर के मुताबिक, वह अपनी बेटी को शिक्षित होता देखना चाहते हैं। वह कहते हैंः

मैं अपनी बेटी को शिक्षित होते देखना चाहता हूं। मेरे लिए शिक्षा महत्वपूर्ण है। और वास्तव में मेरे लिए यह गर्व की बात है कि वह दोनों धर्मों के बारे में जानती है।

Discussions



TY News