RSS स्वयंसेवक कर रहे है कोल्लम मंदिर हादसा पीड़ितों की मदद, हर कोई कर रहा है प्रशंसा

author image
5:08 pm 11 Apr, 2016


कोल्लम हादसे में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ RSS के कार्यकर्ताओं ने भी बढ़-चढ़कर मदद के हाथ आगे बढ़ाए है। RSS के सदस्य कोल्लम मंदिर त्रासदी के पीड़ितों को हर संभव मदद प्रदान कर रहे हैं। वह न केवल भोजन, पानी और हर ज़रूरी सामान उपलब्ध करा रहे है, बल्कि अस्पतालों में भर्ती घायलों के लिए रक्त दान भी कर रहे है।

इन दो तस्वीरों में आप देख सकते है कि RSS के कार्यकर्ता त्रिवेंद्रम मेडिकल कॉलेज के बाहर रक्तदान के लिए लंबी कतार में खड़े हैं।

 

RSS कार्यकर्ताओं को उनके इस नेक काम के लिए सोशल मीडिया पर बेहद प्रशंसा मिल रही है। कोल्लम पुत्तिंगल देवी मंदिर आग हादसे में घायल हुए लोगों की मदद में आगे आए RSS के कार्य को सराहा जा रहा है।

संगठन के कार्यकर्ता 10 अप्रैल की सुबह से ही घायलों के पास जाकर उनकी हरसंभव सहायता कर रहे है। यही नहीं, उन्होंने भारतीय नौसेना, वायु सेना और अन्य सरकारी संगठनों के साथ बचाव और राहत प्रयासों में भी सक्रिय रूप से लोगों को मदद मुहैया कराई।

RSS volunteers

मंदिर परिसर में मृतकों को बाहर निकालते RSS स्वयंसेवक RSS/Facebook

 

RSS

RSS स्वयंसेवकों ने पीड़ितों की मदद के लिए मंदिर परिसर के बाहर बनाया हेल्प डेस्क RSS/Facebook

ये पहली बार नहीं है जब RSS कार्यकर्ता आपदा पीड़ितों की मदद करने के लिए सामने आए हों।

इससे पहले RSS के कार्यकर्ताओं ने कोलकाता फ्लाईओवर आपदा के दौरान बचाव और राहत प्रयासों में सक्रिय भूमिका निभाई थी।

Kolkata

कोलकाता फ्लाईओवर हादसे के बाद बचाव कार्य में सेना की मदद कर रहे RSS स्वयंसेवकRSS/Facebook

 

Kolkata

कोलकाता में फ्लाईओवर हादसे के बाद RSS स्वयंसेवकों द्वारा चलाया जा रहा बचाव अभियानRSS/Facebook

वहीं 2015 में चेन्नई में आई बाढ़ के दौरान उनके अथक राहत प्रयासों की प्रशंसा की गई थी।

RSS Chennai

चेन्नै में राहत व बचाव अभियान में हिस्सा ले रहे RSS स्वयंसेवक RSS/Facebook

 

RSS Chennai

चेन्नै में बाढ़ के दौरान राहत सामग्री वितरित करते RSS स्वयंसेवक RSS/Facebook

यहां तक की चेन्नई त्रासदी में निष्क्रियता को लेकर तमिलनाडु सरकार की काफी आलोचना हुई थी। लगातार बारिश की वजह से लगभग पूरा शहर पानी में डूब गया था। उस दौरान भी संघ के स्वयंसेवकों ने लोगों को राहत पहुंचाई थी।

Popular on the Web

Discussions



  • Viral Stories

TY News