10 वजह जो एक व्यवसायी को यात्रा करने के लिए प्रेरित करती हैं

4:54 pm 21 May, 2016


‘यह दुनिया एक किताब है और अगर आप घूमे नहीं है, तो इसका मतलब है कि आपने इसका सिर्फ एक पन्ना ही पढ़ा है।’

संत अॉगस्टीन की यह बात वाकई आज के भागमभाग के दौर में सही बैठती है। पर यह चीज़ आपने भी देखी होगी कि जो लोग व्यवसाय करते हैं या जिन्हें आप और हम ‘नव साहसी’ या इंटरप्रेन्योर के नाम से जानते है, वे ही अधिकतर घूमते मिलते हैं। वह अपने व्यस्त कार्यक्रम में से किसी भी तरह समय निकाल कर, यात्रा का मौका नहीं छोड़ते।

सोचने वाली बात है की आखिर ऐसा क्या है, जो इन्हें घूमने के लिए प्रेरित करता है? ऐसा क्या है जो इन्हे अपने व्यस्त कार्यक्रम में से भी यात्रा करने के लिए मजबूर कर देता है? वो जीना ही क्या, जिसमे रोमांच न हो। यात्रा एक ऐसा ही जरिया है, जो रोमांच का पर्याय साबित होता है।

व्यवसाय आपके व्यक्तित्व से सिर्फ मेहनत नहीं मांगती, बल्कि आपकी दृढ़ता, कर्मठता और नयापन मांगती है। ये सारी चीज़ें एक साथ मिल पाना बहुत मुश्किल है, लेकिन यात्रा करना इनमे से कुछ आपको सिखा ज़रूर सकती है।

घूमना सिर्फ एक शौक नहीं है, ये आपको ज़िन्दगी और व्यवसाय के नए पहलुओं के हिसाब से ढालती है। किसी ने सही कहा है, कुछ लोग जीते-जीते घूम लेते है और कुछ लोग घूमते-घूमते जी लेते है।

नीचे लिखी हुई 10 बातें ऐसी है, जो एक इंटरप्रेन्योर को घूमने से जोड़ती हैं।

1. बेहतरीन संपर्क क्षमता

ये वाकई एक ऐसा शब्द है, जो सभी यात्रियों के लिए समान है। एक बिलकुल अंजानी नई जगह जाना, वहां की भाषा का ज्ञान न होना और इन सबके बावजूद वहां लोगों से संपर्क करना, वार्तालाप करना अपने आप में काबिलेतारीफ है। बिलकुल आपके व्यवसाय की तरह, अनजाने लोगों से व्यवहार बनाना और फिर उनसे दोस्ती करना।

यात्रा आपको बेहतर बनाती है। संपर्क करते वक़्त, आप व्यक्ति से नहीं उसके व्यक्तित्व से पहचान करते हैं। सिर्फ आपके व्यवसाय में नहीं, बल्कि आपके अन्य कार्यों में भी संपर्क करना अति महत्वपूर्ण है।

2. अपनाने की काबिलियत

अपनाने की काबिलियत ही आपको जीने में मदद करती है। और यात्रा करना इस काबिलियत का पर्याय होता हैै। हर जगह आपके घर जैसी नहीं होती, आपके अनुकूल नहीं होती फिर भी परिस्थितियों के अनुसार खुद को ढालना पड़ता है। हर नई जगह नई चुनौती है। बिलकुल उसी तरह जिस तरह आपके व्यवसाय में या नए काम में कई चुनौतियां आती हैं। ये कभी भी एक जैसी नहीं रहती, हमेशा बदलती रहती है।

यात्रा करने से, नई जगह के बारे में अनुभव करने से यह लाभ रहता है की आपको प्रतिकूल या बदलती परिस्थितियों को अपनाने में आसानी होती है।

3. रचनात्मक क्षमता की बढ़ोतरी

व्यवसाय हमेशा अर्श की ओर ही नहीं बढ़ता, कई बार फर्श पर भी आता है। उसी प्रकार जिस तरह यात्रा करते वक़्त सब कुछ आपके अनुसार नहीं होता। कई बार चीजें अलग भी होती हैं। ऐसे वक़्त पर आपके रचनात्मक चाल-चलन का बड़ा हाथ होता है। बदलते वक़्त के साथ चाल-चलन भी बदलता है।

जितनी ज़्यादा रचनात्मक क्षमता होगी, उतनी ही तरक्की होने की सम्भावना है। ठीक इसी प्रकार आपके व्यवसाय में आपकी रचनात्मक क्षमता ही आपके बिगड़ी बात बना सकती है।

4. नयापन

हर यात्रा का सबसे खुशनुमा हिस्सा होता है, नयापन। ठीक उसी तरह हर व्यवसाय के शिखर पर पहुंचना तभी हो पता है, जब उसमें कुछ नयापन हो। यात्रा इसी नएपन को तराशती है। नएपन के बिना कोई भी व्यवसाय नहीं चल सकता।

यात्रा आपको समझदारी से खर्च करना सिखाती है और इसी का उपयोग एक बेहतर व्यवसाय बनाने में किया जा सकता है।

gastro


5. सारी दुनिया एक समाज की तरह

यात्रा करना रोमांचक अनुभव होने के अलावा आपको बहुत कुछ सिखाता है। यात्रा करना भी सबके बस की बात नहीं है। किन्तु यात्रा करने का सार यही निकलता है की पूरी दुनिया एक ही समाज है, बस लोग अलग-अलग हिस्सों में बसे है। इसी प्रकार व्यवसाय भी आपको सहिष्णुता और सबके एक होने की भावना देता है। एक जगह रहने पर हम उस जगह के अनुसार अपने-आपको ढाल लेते हैं, लेकिन नई जगह जाने पर हमें वहां की संस्कृति, इतिहास और रहन-सहन की अनुसार चलना पड़ता है।

जब हम उस नई जगह के अनुसार ढल जाते हैं, तब हम उसका सम्मान भी करते हैं। ठीक उसी प्रकार व्यवसाय में कई बार अलग हटकर चलना पड़ता है।

6. एक बेहतर ज़िन्दगी के लिए प्रतिबद्धता

एक व्यवसायी और एक यात्री के बीच में जो चीज़ समान है, वह है संपत्ति। संपत्ति पैसों में नहीं, बल्कि अनुभव में तौली जाती है। एक बेहतर ज़िन्दगी, इन्हीं अनुभवों से बनती है। दोनों ही अपने-अपने लक्ष्य को प्राप्त करते हुए, बेहतर ज़िन्दगी के लिए प्रतिबद्ध रहते हैं।

इसके लिए वे अपनी रोज़मर्रा की ज़िन्दगी से काफी कुछ हटकर करते हैं। यही बात यात्रा करने वाले को एक बेहतर व्यवसायी बनाती है।

7. प्रबंधन से बेहतर नेतृत्व

एक व्यवसाय की नींव उसका प्रबंधन होता है, किन्तु उससे भी ज़्यादा ज़रूरी व्यवसाय का नेतृत्व होता है। यात्रा करना आपको प्रबंधन के साथ-साथ नेतृत्व क्षमता पर भी गौर करने का समय देता है। एक ओर जहां प्रबंधन सिर्फ उपलब्ध संसाधनों में महारत देता है, वही नेतृत्व क्षमता आपको विपरीत परिस्थितियों में भी बेहतर बनाता है।

एक अच्छा नेता वही होता है, जो सबकी ज़रूरतों के अनुसार उनसे कार्य करवाए और सही फैसले लेकर व्यवसाय को आगे बढ़ाए। यात्रा हर व्यक्ति को अपनी क्षमताओं के आगे ढकेलती है और इससे नेतृत्व क्षमता का विकास होता है।

8. संस्कृति के प्रति संवेदनशील

संस्कृति एक ऐसा पहलु है, जिसे किसी भी व्यवसाय में अधिक महत्व नहीं दिया गया, किन्तु इसकी बदौलत ही सारा व्यवसाय चलता है। विभिन्न संस्कृतियों को जानने से और उनके चाल-चलन को समझ कर एक विराट व्यवसाय की आधारशिला रखी जा सकती है।

यात्रा एक व्यक्ति को इन विभिन्न संस्कृतियों से अवगत कराने के अलावा इन्हें अपनाना सिखाती है, जो वाकई एक व्यवसाय के लिए ज़रूरी है।

9. छठी इंद्रीय का विकास

व्यवसाय करने का सबसे बड़ा फायदा यह है कि इसमें सारे फैसले आपके होते हैं और इन्ही फैसलों के कारण व्यवसाय आगे बढ़ता है। यात्रा का एक पहलू यह भी है कि यात्रा आपको खुद के फैसले लेने में मदद व प्रेरित करती है।

भरोसा खुद पर, साथ वालों पर, पूरी प्रणाली पर और सबसे अधिक अपने फैसलों पर होना बहुत ज़रूरी है, और यात्रा करने से अच्छा कोई और अनुभव नहीं जो इसे बेहतर बना दे।

10. उन्नति

सबसे आखिरी, पर सबसे महत्वपूर्ण यह है कि यात्रा आपको सिर्फ आपके व्यवसाय में ही नहीं, बल्कि आपके व्यक्तित्व में भी सुधार लाने में मदद करती है। और इसी के साथ बाकी लोगों को भी प्रेरणा प्रदान करती है।

Popular on the Web

Discussions



  • Co-Partner
    Viral Stories

TY News