पेरिस में आतंकी हमला, राष्ट्रपति चुनावों में दक्षिणपंथी मरीन ली पेन को मिल सकती है बढ़त

author image
10:51 am 21 Apr, 2017

फ्रान्स की राजधानी पेरिस में एक बार फिर आतंकी हमले की खबर है।

इस हमले में एक पुलिस अधिकारी की मौत हो गई है, जबकि 2 लोगों की हालत नाजुक बनी हुई है। पुलिस की जवाबी कार्रवाई में एक हमलावर मारा गया है।

मीडिया रिपोर्ट्स में कहा गया है कि इस हमले में दो लोग शामिल थे और पुलिस दूसरे संदिग्ध की तलाश कर रही है।

फ्रान्स के सर्वोच्च नेता फ्रांस्वा ओलांद ने भी आतंकी हमले की पुष्टि की है।

इस हमले की जिम्मेदारी कुख्यात अंतर्राष्ट्रीय आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट ने ली है।

यह हमला पेरिस के चैम्प्स एलीसीस बुलेवार्ड इलाके में स्थानीय समय के अनुसार रात 9 बजे हुआ। यहां पुलिस गश्त दे रही थी। तभी पुलिस की गाड़ी के पास एक कार आकर रुकी। एक हमलावर उससे बाहर निकला और अपने स्वचालित हथियार से फायरिंग शुरू कर दी।

संदिग्ध हमलावर की पहचान 39 वर्षीय करीम सी. के रूप में की गई है। उसने वर्ष 2001 में एक पुलिस अधिकारी की हत्या की थी। तब उसे 20 साल की जेल हुई थी।

वर्ष 2015 में हुए आतंकी हमले के बाद इमरजेंसी से गुजर रहा है। पिछले दो साल में यहां आतंकी हमलों में कम से कम 230 लोगों मौत हो चुकी है। माना जा रहा है कि ताजा पेरिस हमले फ्रान्स में दो दिन बाद होने वाले राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव पर असर डाल सकते हैं। फ्रांस्वा ओलांद का उत्तराधिकारी चुनने के लिए पहले दौर के वोट 23 अप्रैल को डाले जाएंगे।

लगातार आतंकी हमले झेल रहे फ्रान्स में हाल के दिनों में धुर दक्षिणपंथी फ्रंट नेशनल की उम्मीदवार मरीन ली पेन बढ़त बनाए हुए हैं।

ली पेन को वैश्वीकरण विरोधी, आप्रवासन विरोधी माना जाता है।

वह आक्रामक रूप से यूरोपीय संघ विरोधी रुख अपनाए हुई हैं और कहा जा रहा है कि उनके राष्ट्रपति बनने के बाद फ्रान्स यूरोपीय यूनियन से अपना रास्ता अलग कर सकता है।

इस्लामिक आतंकवाद की लगातार घटनाओं की वजह से देश में धुर दक्षिणपंथी विचारों ने जडे़ं जमा ली हैं।

दक्षिणपंथी विचार पहले की तुलना में अधिक मुख्यधारा में हैं। ऐसे में, ली पेन चाहे जीतें या हारें, फ्रांस को वह जरूर प्रभावित करेंगी।

Discussions



TY News