पनामा पेपर्स से दुनिया में बवाल, ये है पूरा मामला

author image
6:53 pm 4 Apr, 2016


टैक्स हेवन देशों में काली कमाई छुपाने पर बड़ा खुलासा सामने आया है। दरअसल, पनामा की लॉ फर्म मोसेक फोंसेका से लीक हुए पेपर्स से दुनिया के बड़े नेताओं और कारोबारियों की नीन्द उड़ गई है।

लीक हुए इन कागजातों के मुताबिक, काले धन को खपाने के लिए बड़े पैमाने पर नकली कंपनियां बनाई गईं।

इन पेपर्स में मेगास्टार अमिताभ बच्चन, ऐश्वर्या राय और डीएलएफ के प्रमोटर केपी सिंह के अलावा 500 से अधिक भारतीयों के नाम हैं। इस खुलासे को विकीलीक्स के बाद सबसे बड़ा खुलासा माना जा रहा है।

यही नहीं, व्लादिमीर पुतिन, नवाज शरीफ, शी जिनपिंग और फुटबॉलर मैसी जैसी तमाम बड़ी हस्तियां कठघड़े में दिखाई पड़ रही हैं।


इतनी बड़ी संख्या में ये रिकॉर्ड जर्मन अखबार सुडूशे जीतुंग ने एक अज्ञात सूत्र से प्राप्त किए हैं और इसे अंतरराष्ट्रीय खोजी पत्रकार संघ (ICIJ) के जरिए दुनिया भर के मीडिया के साथ साझा कर दिया।

मोजैक फोंसेका मध्य अमेरिका के देश पनामा की एक लॉ फर्म है, जो दुनियाभर की गुमनाम कंपनियों को बेचती है। इसके दुनियाभर में दर्जनों दफ्तर हैं। ये हजारों कंपनियों को फंडिग करती है, बेचती है और उनका प्रबंधन देखती है।

यह कंपनियों के लिए फर्जी डॉयरेक्टर भी मुहैया कराती है साथ ही कंपनी के मूल शेयर होल्डर्स के नाम भी छुपाए जा सकते हैं। कुल मिलाकर कंपनी काले धन को सफेद करने के गोरखधंधे में शामिल है।

लीक हुए कागजातों में दुनियाभर के 2.14 लाख खातों का जिक्र है, जिससे पता चलता है कि दुनिया भर से टैक्स हेवन देशों में लगातार पैसे भेजे जाते रहे हैं। पैसे बचाने के लिए इन देशों में शैडो कंपनियां, ट्रस्ट और कॉर्पोरेशन बनाए गए हैं। ये कागजात 1975 से 2015 तक के हैं।

ऐश्वर्या ने दी सफाई

अभिनेत्री ऐश्वर्या राय बच्चन ने इस मामले में सफाई देते हुए कहा है कि इस जानकारी में सच्चाई नहीं है। वहीं, कारोबारी केपी सिंह ने कहा है कि सब कुछ आरबीआई की गाइडलाइंस के अनुसार किया गया है।

Popular on the Web

Discussions



  • Co-Partner
    Viral Stories

TY News