भारत की ‘आक्रामक विदेश नीति’ से डरा पाकिस्तान, मची खलबली

author image
11:34 am 9 Jun, 2016


भारत की ‘आक्रामक विदेश नीति’ से पाकिस्तान में खलबली मच गई है। न्यूक्लियर सप्लायर्स ग्रुप (NSG) की सदस्यता के लिए भारत को अमेरिका का समर्थन मिलने की बात से पाकिस्तान तिलमिला गया है।

वहीं, पाकिस्तान के पड़ोसी देशों ईरान और अफगानिस्तान से भारत की बढ़ती नजदीकियां पाक को रास नहीं आ रही है। बदलते हालात में पाकिस्तानी सांसदों ने सरकार से कूटनीतिक नाकामी को तत्काल दुरुस्त करने को कहा है।

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के हालिया अफगानिस्तान, ईरान, संयुक्त अरब अमीरात तथा कतर दौरों से पाकिस्तान में बौखलाहट चरम पर है। सऊदी अरब सहित ये देश पाकिस्तान के मित्र देश माने जाते हैं।

इन दिनों पीएम मोदी 48 सदस्यीय परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह (एनएसजी) में भारतीय सदस्यता के लिए समर्थन जुटाने पांच देशों की यात्रा पर निकले हैं। भारत को इस मुद्दे पर एनएसजी के लगभग सभी देशों का समर्थन प्राप्त हो रहा है।

पाकिस्तानी सीनेट की सुरक्षा समिति के अध्यक्ष और पाकिस्तान मुस्लिम लीग-क्यू के सीनेटर मुशाहिद हुसैन सैयद ने आरोप लगाया कि पाकिस्तान की कूटनीति ‘असफल’ हो गई है। उन्होंने कहा कि अगर भारत एनएसजी का सदस्य बन जाएगा, तो वह पाकिस्तान को समूह में शामिल होने से रोकने में सफल हो जाएगा।


सैयद ने कहा कि ईरान और अफगानिस्तान पाकिस्तान से अलग-थलग होने के बाद भारत के साथ अपने आर्थिक संबंध बेहतर कर रहे हैं।

हालांकि, इस मुद्दे पर पाकिस्तान के विदेशी मामलों के सलाहकार सरताज अजीज ने कहा है कि पाकिस्तान एनएसजी में भारत के शामिल होने के प्रयास को रोकने के लिए प्रभावशाली तरीके से प्रयास कर रहा है।

तिलमिलाए पाक ने किया तीन देशों को फोन

न्यूक्लियर सप्लायर्स ग्रुप (NSG) की सदस्यता के लिए भारत को अमेरिका, स्विटजरलैन्ड और मेक्सिको का समर्थन मिलने की बात से पाकिस्तान तिलमिला गया है। प्रधानमंत्री मोदी की इन देशों की तुफानी यात्रा के बाद माना जा रहा है कि भारत को NSG की सदस्यता मिल जाएगी।

इस मामले में भारत को बाजी मारता देख पाकिस्तानी प्रधानमंत्री के विदेशी मामलों के सलाहकार सरताज अजीज ने तीन देशों रूस, न्यूजीलैंड और दक्षिण कोरिया के विदेश मंत्रियों के साथ फोन पर बातचीत की है।

इन देशों से कहा गया है कि भारत को NSG की सदस्यता मिलना दक्षिण एशिया में स्थायित्व के लिए नकारात्मक होगा।

Popular on the Web

Discussions



  • Co-Partner
    Viral Stories

TY News