आखिरकार नवाज शरीफ ने माना- कारगिल वॉर भारत की पीठ में छूरा घोंंपना था

author image
2:48 pm 17 Feb, 2016

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने आखिरकार कबूल किया है कि 16 साल पहले जो कारगिल युद्ध हुआ था, वह भारत की पीठ पर छुरा घोंपने जैसा था। जी हां, एक समाचार चैनल पर वार्ता के दौरान उन्होंने इस बात को स्वीकार किया है।

शरीफ ने भारत की ओर संबोधित करते हुए कहाः

“लाहौर घोषणापत्र जारी किए जाने के दौरान वाजपेयी ने मुझसे कहा था कि कारगिल पर कब्जा करने की कोशिश के जरिए उनकी पीठ में खंजर घोंपा गया है। वाजपेयी ने बिलकुल ठीक कहा था। मैं भी वही बात कहूंगा कि निश्चित तौर पर उन्हें धोखा दिया गया था।”

शरीफ ने आगे यह भी कबूला कि तत्कालीन भारतीय प्रधानमंत्री वाजपेयी को उस वक़्त धोखा दिया गया, जब दो देशों के बीच शांति वार्तालाप के ज़रिए अच्छे संबंधों की नींव रखी जा सकती थी।

वहीं प्रधानमंत्री शरीफ ने भारत और पाकिस्तान के लोगों और उनकी समानताओं का जिक्र करते हुए कहाः


“भारत और पाकिस्तान के लोग एक जैसे ही हैं, बस दोनों देशों के बीच सरहद है। हम दोनों ही आलू-गोश्त का लुत्फ उसी अंदाज से उठाते हैं।”

गौरतलब है कि साल 1999 में पाकिस्तान से जहां एक तरफ शांति वार्ता का दौर चल रहा था, वहीं दूसरी ओर सीमा पार से घुसपैठ की गतिविधियां लगातार तेज हो रही थीं, जिसका परिणाम कारगिल युद्ध के रूप में सामने आया।

उस समय भारत में NDA की सरकार थी जिसकी अगुवाई तत्कालीन प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी कर रहे थे। कारगिल युद्ध में भारत के कुल 527 जवान शहीद हुए थे।

Discussions



TY News