यह रहे भारतीय इतिहास के 10 सबसे चर्चित व महत्वपूर्ण भाषण; समाज को दी एक नई दिशा

author image
1:27 pm 21 Dec, 2015

प्रत्येक समाज में प्रतिनिधित्व अपरिहार्य है। राजपाट हो, अध्यात्म हो, मनोरंजन हो, युद्ध हो या फिर क्रीड़ा जगत ही क्यों न हो हर क्षेत्र की विशिष्टता को उसका प्रमुख प्रतिनिधि ही जनसामान्य के समक्ष प्रतिबिंबित करता है। राजनीतिक दृष्टिकोण से देखेंगे तो किसी प्रान्त की गरिमा और उसकी अंतर्देशीय छवि का अंदाजा आप वहां के प्रतिनिधि के वक्तव्य से लगा सकते हैं, क्योंकि असली सामर्थ्य शस्त्रों में नहीं बल्कि ‘शब्दों’ में होता है। अतएव आपको भी ऐसे भाषणों के बारे में अवश्य जानना चाहिए, जो भारतीय इतिहास में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करते हैं।

1. स्वामी विवेकानंद जी का शिकागो धर्मं सम्मलेन में दिया गया महान वक्तव्य जिसने सही मायने में न केवल अध्यात्म में बल्कि ज्ञान-विज्ञान के क्षेत्र में भारत की महानता और सर्वोच्चता को विश्व के सामने बेहद प्रभावी ढंग से प्रस्तुत किया।


यह भाषण न केवल उत्तरी अमेरिका, बल्कि पूरे यूरोप में चर्चा का विषय रहा, जिसके कारण स्वामी जी के साथ-साथ भारत के प्रति दुनिया का नजरिया बदला।

2. Tryst With Destiny नाम से चर्चित इस भाषण द्वारा पंडित नेहरु ने स्वतंत्रता प्राप्ति की पूर्व संध्या पर समूचे भारतवर्ष को संबोधित किया था। जिसमे उन्होंने समस्त राष्ट्र की जनता के साथ पहली बार ‘स्वतंत्र’ संवाद किया था।

3. स्वराज्य मेरा जन्म सिद्ध अधिकार है,पंडित बालगंगाधर तिलक ने इस सुप्रसिद्ध नारे को अंग्रेजों की 6 साल की कैद से निकलने के बाद एक ओजस्वी व्याख्यान में दिया था।

4. 23 जनवरी 1957 को संयुक्त राष्ट्र की सुरक्षा परिषद् के सामने कश्मीर मुद्दे पर भारत का पक्ष रखते हुए रक्षा मंत्री वी.के.कृष्णमेनन ने सबसे लम्बा भाषण दिया, जिसका हवाला आज भी भारतीय कूटनीतिज्ञ दिया करते हैं।

5. भारत रत्न और पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी द्वारा 1977 में संयुक्त राष्ट्र संघ में ‘हिंदी’ में दिए गए भाषण ने अन्तर्राष्ट्रीय मंच पर भारतीय राष्ट्रभाषा को गौरव दिलाने में अहम् भूमिका निभाई।

6. “तुम मुझे खून दो मै तुम्हे आजादी दूंगा” भारतीय स्वाधीनता संग्राम में महात्मा गांधी के बाद यदि किसी व्यक्ति ने भारतीय अवचेतन पर प्रभाव डाला था, वो थे सुभाष चन्द्र बोस। उनके द्वारा दिया गया यह नारा एक प्रमुख भाषण का अंश है।

7. इंफोसिस के संस्थापक नारायण मूर्ति द्वारा लाल बहादुर शास्त्री इंस्टिट्यूट ऑफ़ मैनेजमेंट में दिया गया वो भाषण जिसमे उन्होंने पश्चिमी मूल्यों के समकालीन भारतीय समाज पर पड़ने वाले असल पर प्रकाश डाला था, अब तक के सबसे महत्वपूर्ण भाषणों में एक माना जाता है।

8. IIM बेंगलोर के दीक्षांत समारोह में माइंड ट्री के सह संस्थापक सुब्रतो बाग्ची द्वारा सफलता के मायनों पर दिया गया व्याख्यान बहुत प्रभावी माना जाता है। आज भी इसे लाखों लोग YouTube पर सुनते हैं।

9. IIT हैदराबाद में मिसाइल मैन और भारत के पूर्व राष्ट्रपति डॉ. अब्दुल कलाम ने अपने अभिभाषण में भारत के प्रति अपने विज़न को टैक्नोक्रैट्स के सामने रखा। My Vision For INDIA हजारों युवाओं की देश के प्रति निष्ठा और प्रेरणा का स्तोत्र है।

10. भारत में क्रिकेट के भगवान् कहे जाने वाले सचिन तेंदुलकर द्वारा, अन्तर्राष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेते वक़्त दी गई स्पीच, जिसमे उन्होंने अपने खेल सफ़र और उसमे सहयोग देने वालों को धन्यवाद कहा। यह खेल इतिहास में अब तक की सबसे प्रभावी और स्मरणीय स्पीच मानी जाती है।

Discussions



TY News