इस शहीद के परिवार को है सरकारी मदद का इंतजार, कलेक्टर से लेकर मुख्यमंत्री तक का खटखटाया दरवाजा

5:59 pm 20 Nov, 2016


भोपाल की जेल से भागते वक्त सिमी आतंकियों द्वारा मारे गए हेड कांस्टेबल रमाशंकर यादव का परिवार आज भी मुआवजे की राशि का इंतजार कर रहा है।

दरअसल, शहीद रमाशंकर यादव की अंतिम यात्रा में शामिल हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शहीद के परिवार को 25 लाख रुपए देने की घोषणा की थी। साथ ही वायदा किया था कि रमाशंकर की बेटी की शादी में किसी तरह की कोई मुश्किल न हो इसका ध्यान रखा जाएगा।

shivraj

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान शहीद हेड कांस्टेबल रमाशंकर यादव की अंतिम यात्रा में patrika

मुख्यमंत्री के वायदे के बाद अभी तक कोई आर्थिक मदद परिवार को नहीं मिली है। इस सिलसिले में परिवार, मुख्यमंत्री सचिवालय गया जहां उन्हें बताया गया कि कलेक्टर कार्यालय से प्रस्ताव आने के बाद ही मदद राशि दी जाएगी।

इसके बाद कलेक्टर निशांत वरबड़े से मिलने पहुंचे परिजनों को मदद करने का आश्वासन तो दिया गया, लेकिन मुख्यमंत्री की घोषणा के अनुसार कब तक आर्थिक मदद मिलेगी इसके बारे में कोई सूचना नहीं दी गई।

आपको बता दें कि रमाशंकर यादव की सबसे छोटी बेटी सोनिया की इसी साल 9 दिसंबर को शादी होने वाली है। रमाशंकर शादियों की तैयारियों के लिए एक नवंबर से छुट्टी लेने वाले थे। उन्होंने शादी के खर्चे के लिए ईपीएफ से 50 हज़ार रुपए भी निकाल रखे थे, लेकिन बेटी की शादी से पहले ही वह शहीद हो गए।

उनकी मृत्यु के बाद अब ईपीएफ का पैसा कानूनी अड़चनों में फंस गया है। अब उनका परिवार मुख्यमंत्री कार्यालय से मदद की आस में है।

Discussions