आतंकियों से मुठभेड़ में शहीद हुए नायक गवाडे पांडुरंग महादेव को दी गई अंतिम विदाई

author image
2:22 pm 24 May, 2016


देश का एक बहादुर जवान अपनी मातृभूमि की रक्षा के लिए अंतिम सांस तक दुश्मनों से लड़ता रहा। कुपवाड़ा में आतंकियों से लोहा लेते वक़्त शहीद हुए सेना के जांबाज नायक कमांडर गवाडे पांडुरंग महादेव को श्रीनगर में सेना के तमाम बड़े अधिकारियों ने श्रद्धांजलि दी।

34 वर्षीय सेना के नायक गवाडे पांडुरंग महादेव कुपवाड़ा में आतंकियों से मुठभेड़ के दौरान गंभीर रूप से घायल हो गए थे।

उन्हें इलाज के लिए 92 बेस अस्पताल में भर्ती कराया गया। इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई। पांच आतंकियों को मार गिराने वाली टीम के वह अहम सदस्य थे।

मिली जानकारी के मुताबिक, उनके पार्थिव शहर को महाराष्ट्र के सिंदुदुर्ग जिले स्थित पैतृक गांव भेजा जाएगा।

नार्दर्न कमांड के जीओसी इन सी लेफ्टिनेंट जनरल डीएस हुड्डा ने देश के इस बहादुर जवान की शहादत पर कहा:


“आतंक के खिलाफ लड़ाई में देश उनके बलिदान को हमेशा याद करेगा। दुख की इस घड़ी में उनके परिवार को हर संभव सहायता देने के लिए हम प्रतिबद्ध हैं।”

शहीद पांडुरंग अपने पीछे अपनी पत्नी प्रांजल, और दो बच्चों प्रज्वल और वेदांत को अपनी यादों के साथ छोड़ इस दुनिया से अलविदा कह गए।

गौरतलब है कि डरूगमुल्ला में दस घंटे चली लंबी मुठभेड़ में भारतीय जवानों ने जैश के पांच आतंकियों को मार गिराया था। इसके साथ ही तीन जवान घायल हुए थे।

Popular on the Web

Discussions