मालदा दंगा मामले में कालियाचक के पुलिस अधिकारियों पर गिरी गाज

author image
12:06 pm 8 Jan, 2016

मालदा दंगा मामले में पश्चिम बंगाल सरकार ने कार्रवाई करते हुए कालियाचक थाना प्रभारी शुभब्रत घोष को छोड़कर बाकी सभी पुलिस अधिकारियों और कर्मचारियों का तबादला अन्यत्र कर दिया है। यहां प्रभारी सहित 12 पुलिसकर्मी तैनात थे। रिपोर्ट के मुताबिक, थाना प्रभारी का तबादला भी किया जा सकता है। इस संबंध में राज्य सचिवालय को एक रिपोर्ट भेजी गई है।

मालदा के अतिरिक्त जिला पुलिस अधीक्षक अभिषेक मोदी ने बताया है कि कालियाचक थाना के सभी पुलिसकर्मियों का तबादला कर दिया गया है। और इसके बदले में वहां दक्ष अधिकारियों की ड्यूटी लगाई गई है। मोदी के मुताबिक थाना प्रभारी के तबादले का अधिकार जिला पुलिस के पास नहीं होता, इसलिए एक रिपोर्ट राज्य सचिवालय में भेजी गई है।

रिपोर्टः मालदा की फिजाओं में अब भी तैर रही है साम्प्रदायिक हिंसा की गंध


पिछले रविवार को मालदा में मुसलमानों की एक विशाल रैली में अचानक हिंसा भड़क उठी थी। यह रैली हिन्दू महासभा के नेता कमलेश तिवारी के पैगम्बर मोहम्मद के संबंध में कथित अपमानजनक टिप्पणी के विरोध में निकाली गई थी।

उग्र भीड़ ने कालियाचक थाने पर हमला बोल दिया था। थाने में उपस्थित पुलिसकर्मियों से मारपीट करने के साथ एन एच 34 पर गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया गया। थाने को फूंक दिया गया। हमले में कालियाचक थाना प्रभारी शुभब्रत घोष सहित पांच पुलिस कर्मचारी घायल हुए हैं।

इस मामले में अब तक 9 लोगों को गिरफ्तार किया गया, लेकिन इनमें से 6 को गिरफ्तारी के कुछ घंटे बाद ही जमानत दे दी गई।

इस बीच, जिला प्रशासन ने कल 9 जनवरी को सर्वदलीय बैठक बुलाई है, जिसमें कांग्रेस, तृणमूल, मार्क्सवादी कम्युनिट्स पार्टी और भारतीय जनता पार्टी के प्रतिनिधियों से शामिल होने की अपील की गई है।

Discussions



TY News