कोलकाता मेट्रो से जुड़े ये 12 आश्चर्यजनक तथ्य आपको चौंका देंगे

3:18 pm 27 Feb, 2016


कोलकाता शहर को सिटी ऑफ ज्वाय कहा जाता है। 400 साल पुराना यह शहर जहां अपनी ऐतिहासिकता के लिए विख्यात है, वहीं इसे पहचाना जाता है मेट्रो ट्रेन की वजह से।

जी हां, भारत में पहली बार भूमिगत रेल यातायात की शुरुआत इसी शहर में हुई थी। आज हम आपको कोलकाता मेट्रो के बारे में कुछ ऐसे आश्चर्यजनक तथ्यों से रूबरू कराने जा रहे हैं, जिनके बारे में आपको शायद ही पता होगा।

1. कोलकाता मेट्रो रेल को बॉलीवुड की कई फिल्मों में जगह मिली है।

विद्या बालन की कहानी याद है आपको। ट्रेन ट्रैक पर धक्का देकर गिराने वाला दृश्य रवीन्द्र सरोबर स्टेशन पर फिल्माया गया था।

2. अब चली है एयकंडीशन्ड ट्रेन।

कोलकाता मेट्रो में एयरकंडीशन्ड ट्रेन्स हाल ही में चलाई गईं हैं। इससे पहले इसमें आम डिब्बे ही लगाए गए थे।

3. प्रेमी जोड़ों के लिए सुरक्षित स्थान।

कोलकाता मेट्रो स्टेशन्स पर आप प्रेमी जोड़ों को हाथ में हाथ लेकर विचरते देख सकते हैं। यही वजह है कि रेल प्रशासन को जगह-जगह स्टीकर लगाना पड़ा है कि यहां टाइम पास करने पर जुर्माना लगाया जा सकता है। अब समझिए, प्रेम टाइम पास है भला।

4. कोलकाता मेट्रो ट्रैक्स सड़क यातायात का 6.2 फीसदी हिस्सा है।

कोलकाता मेट्रो के बारे में कहा जाता था कि यह पारंपरिक यातायात का एक विकल्प होगा। ऐसा अब तक तो नहीं हो सका है, लेकिन जिस तरह कोलकाता मेट्रो का विस्तार हो रहा है, भविष्य में ऐसा हो सकता है।

5. बंगाल आज सोचता है, वही भारत कल सोचता है।

यह एक शानदार ऐतिहासिक उक्ति है। कोलकाता में मेट्रो ट्रेन शुरू होने के दो दशक बाद इस तरह की सेवा दिल्ली और मुम्बई शहरों में शुरू की जा सकी थी।

6. कोलकाता में सबसे तेज यातायात का साधन।

सही मायने में कोलकाता मेट्रो यातायात का सबसे तेज साधन बन कर उभरा है। यहां 20 से 25 किलोमीटर की दूरी आप कुछ ही मिनटों में तय कर सकते हैं।


7. स्टेशनों के नाम रखे गए हैं विभूतियों के नाम पर।

गिरिश पार्क, जतिन दास पार्क, कवि सुभाष, कवि नजरूल, महानायक उत्तम कुमार, महात्मा गांधी रोड, मास्टरदा सूर्य सेन, नेताजी भवन और शहीद खुदीराम जैसे स्टेशनों का नामकरण महान विभूतियों के नाम पर हुआ है।

8. रहस्यमय हैं कई स्टेशन।

कोलकाता मेट्रो के कई स्टेशन रहस्यमय हैं। आश्चर्यनजक रूप से अधिकतर आत्महत्या की घटनाएं रवीन्द्र सरोबर मेट्रो स्टेशन पर ही हुई हैं। कहा जाता है कि इस स्टेशन पर रात को आत्माओं का वास होता है।

9. कोलकाता मेट्रो के सभी स्टेशन्स एयर-कूल्ड होते हैं।

यहां के स्टेशन्स एयर कंडीशन्ड नहीं, बल्कि एयर-कूल्ड होते हैं। धरती के अन्दर होने के बावजूद आप असहज महसूस नहीं करते।

10. सबसे सस्ता, सबसे अच्छा।

कोलकाता मेट्रो में सफर सबसे सस्ता है। यहां से निम्नतम किराया है 5 रुपए और अधिकतम 15 रुपए। चौंक गए।

11. ऑफिस टाइमिंग के दौरान सफर है मुश्किल।

कोलकाता मेट्रो में ऑफिस ऑवर में सफर करना मुश्किल हो सकता है। जी हां, कोलकाता मेट्रो में रोज 5 लाख से अधिक यात्री सफर करते हैं।

12. कोलकाता मेट्रो की नींव रखी थी पूर्व प्रधानमंत्री इन्दिरा गांधी ने।

कोलकाता मेट्रो की शुरुआत हुई थी वर्ष 1972 में। और पहली ट्रेन चली थी वर्ष 1984 में।

Popular on the Web

Discussions



  • Co-Partner
    Viral Stories

TY News