80 साल के बलविन्दर पैदल ही निकल पड़े कन्याकुमारी से दिल्ली, पीएम मोदी कर रहे हैं इन्तजार

author image
5:43 pm 1 Mar, 2016

अगर आप कुछ करना चाहते हैं तो उम्र आड़े नहीं आती। यह बात लागू होती है, अप्रवासी भारतीय बलविन्दर सिंह ग्रेवाल पर। जी हां, लंदन में रहने वाले 80 वर्ष की आयु के बलविन्दर एक अनोखी यात्रा के अंतिम पड़ाव में हैं।

वह दक्षिण भारत के कन्याकुमारी से दिल्ली तक की 2600 मील की यात्रा पर पैदल निकले हैं। यही नहीं, उनके दिल्ली पहुंचने का इन्तजार प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को भी है।

ग्रेवाल की इस अभिनव यात्रा का उद्देश्य है वर्ष 2018 तक भारत देश से अंधेपन की बीमारी को खत्म करना। फिलहाल कन्याकुमारी से शुरू हुई उनकी यह यात्रा मध्यप्रदेश के सागर जिले तक पहुंच गई है।


वर्ष 2011 की जनगणना के अनुसार देश में करीब 60 लाख लोग ऐसे हैं, जो कार्नियल अंधत्व के शिकार हैं। इलाज के माध्यम से उनकी आंखों की रोशनी लौटाई जा सकती है। बलविन्दर सिंह अपने अभियान के जरिए इसी कोशिश में लगे हैं। अपनी यात्रा के दौरान वह न केवल लोगों से मदद मांगते हैं, बल्कि नेत्रदान की अपील भी करते हैं।

वावीज वॉक फूल सर्किल के नाम से पैदल चलने के अभियान पर निकले ग्रेवाल के मुताबिक, उनकी इस यात्रा को जबर्दस्त समर्थन मिला है। इससे पहले वे इंग्लैन्ड में एक बड़ी पैदल यात्रा कर चुके हैं।

बताया गया है कि उनकी यह यात्रा अप्रैल महीने में दिल्ली में खत्म होगी, जहां लोगों से मिली आर्थिक मदद को वह प्रधानमंत्री राहत कोष में जमा करेंगे। इस अवसर पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी भी उपस्थित रहेंगे।

Discussions



TY News