शहाबुद्दीन को उम्रकैद की सजा सुनाने वाले जज ने सीवान छोड़ा

1:41 pm 21 Sep, 2016


कुछ ही दिन पहले जमानत पर रिहा हुए गैंग्स्टर से नेता बने मोहम्मद शहाबुद्दीन को उम्रकैद की सजा सुनाने वाले जज ने सीवान छोड़ दिया है।

दरअसल, सीवान की विशेष अदालत के जज अजय कुमार का तबादला पटना कर दिया गया है। यह फैसला शहाबुद्दीन को हाईकोर्ट द्वारा गत 10 सितंबर को जमानत दिए जाने के दो दिन बाद ही कर दिया गया था। माना जा रहा है कि जज अजय कुमार ने अपनी जान पर मंडरा रहे खतरे को देखते हुए तबादले की चिट्ठी लिखी थी। राजीव रोशन हत्याकांड में मुख्य साजिशकर्ता के तौर पर शहाबुद्दीन का नाम था।

इस मामले में जज अजय कुमार ने वर्ष 2015 में फैसला सुनाया था। राजीव रोशन वर्ष 2004 में हुए तेजाबकांड में मारे गए गिरीश और सतीश के भाई थे। इस तबादले को सामान्य तबादला करार दिया गया है।

बताया गया है कि एक डिस्ट्रिक्ट जल का कार्यकाल तीन साल का होता है, लेकिन 2 साल बीत जाने के बाद उनका तबादला कभी भी किया जा सकता है। इस रिपोर्ट में सूत्रों के हवाले से बताया गया है कि यह मात्र संयोग मात्र था कि सीवान जज का तबादला और शहाबुद्दीन को जमानत एक साथ मिली।

बिहार में कई बर्बर आपराधिक वारदातों को अंजाम देने वाले राष्ट्रीय जनता दल का पूर्व सांसद शहाबुद्दीन को पिछले 10 सितम्बर को जमानत मिल गई थी। शहाबुद्दीन पर हत्या, फिरौती, अपहरण व पुलिस पर हमले के कई संगीन मामले दर्ज हैं।

माना जा रहा है कि लालू यादव से नजदीकी की वजह से बिहार सरकार ने शहाबुद्दीन के मामले को कमजोर कर दिया और यही वजह है कि वह जेल से बाहर निकल चुका है।

Discussions