68 दिन के उपवास के बाद 13 वर्षीय लड़की की मृत्यु

त्योहारों के इस मौसम में हैदराबाद में एक अप्रिय घटना हुई है। दरअसल, 68 दिन का तपा देने वाला उपवास रखने के बाद एक 13 वर्षीय लड़की की मृत्यु हो गई। यह लड़की जैन धर्म के पवित्र दिनों ‘चौमासा’ के दौरान व्रत पर थी, जिसका लंबे उपवास के बाद देहान्त हो गया। हिंदू धर्म में भी चौमासा का काफ़ी महत्व है।

खबर के मुताबिक आराधना के अंतिम संस्कार में बड़ी मात्र में लोग उपस्थित थे जो उसे बाल तपस्वी के नाम से संबोधित कर रहे थे। यही नहीं, आराधना की शव यात्रा को ‘शोभा यात्रा’ का नाम दिया गया।

भारतीय कैलंडर के हिसाब से अषाढ़, श्रावण, भाद्रपद, अश्विन एवं कार्तिक तक रहता हैं। यह काल चौमासा कहलाता हैं। यह काल हिंदू और जैन धर्म के लिए काफ़ी आस्था का विषय रहता है।
इस परिवार को जानने वालों का कहना है कि लड़की ने इससे पहले 41 दिन के उपवास भी सफलतापूर्वक रखे थे। बताया जाता है कि, लंबे समय तक व्रत रखने वाली यह परंपरा जैन समुदाय का एक अंग है, लेकिन लोग इस घटना पर सवाल उठा रहे हैं, क्योंकि लडकी नाबालिग थी।
चौमासा के दिनों में जैन धर्म के लोग पूरे महीने मंदिर जाकर धार्मिक अनुष्ठान करते हैं एवम सत्संग में भाग लेते हैं। घर के सदस्य जैन मंदिर परिसर में एकत्र होकर नाना प्रकार के धार्मिक कार्य करते हैं। वहीं, नाबालिग लड़की की इस आस्था की वजह से मृत्यु हो जाने पर सवाल भी उठ रहे हैं।
सभार: NDTV

Discussions



TY News