भारत का एकमात्र बैंक जहां नहीं लगता ताला, बदलने पड़े थे RBI को अपने नियम

author image
1:30 pm 3 Dec, 2015


एक तरफ जहां देशभर के बैंक सुरक्षा को लेकर सचेत रहते हैं, वहीं देश में यूको बैंक की एक ऐसी शाखा है जहां कभी ताला नहीं लगाया जाता। भले ही रात ही क्यों न हो। इस बैंक को देश की पहली लॉकलेस ब्रांच का दर्जा हासिल है।

बैंक की यह शाखा महाराष्ट्र के अहमदनगर जिले के एक छोटे से कस्बे शनि शिंगनापुर में हैं।

इस ब्रांच को खुलवाने के लिए सरकार को कड़ी मसक्कत करनी पड़ी थी। रिज़र्व बैंक को भी अपने नियमों में बदलाव करना पड़ा था। यहां के स्थानीय लोगों की मांग थी कि अगर यहां कोई बैंक खुलेगा, तो उसमें ताला नहीं लगाया जाएगा। इसके लिए सरकार, रिज़र्व बैंक और स्थानीय पुलिस राज़ी नहीं थी और साथ ही साथ कोई भी बैंक प्रबंधन यहां अपने बैंक की शाखा खोलने के लिए तैयार भी नहीं था।

तमाम दिक्कतों के बावजूद यूको बैंक ने यहां शाखा शुरू करने की जिम्मेदारी ली। और इसकी शुरूआत हुई वर्ष 2011 में। तब से अब तक इस बैंक में ताला नहीं लगाया जाता। इस शाखा की खासियत है कि रात के वक्त या छुट्टी के दिनों में यहां कोई कर्मचारी रखवाली के लिए तैनात नहीं होता।

बस बैंक के बाहर से एक ग्लास फ्रेम डोर लगाया गया है, ताकि कोई जानवर अंदर न घूस सके। कैश की सुरक्षा हेतु यहाँ स्ट्रॉन्ग रूम बनाया गया है, लेकिन बैंक में चाहे जितना भी कैश हो ताला कभी भी नहीं लगाया जाता है।

बैंक ही नहीं, इस गांव की भी खासियत है कि यहां किसी भी घर में ताला नहीं होता। शनि शिंगनापुर कस्बे में जितने भी घर है, उनमें दरवाजे नहीं लगे है, सिर्फ पर्दे लगे हैं।

यहां तक कि दुकानों में शटर या ताला नहीं लगाया जाता और ख़ास बात यह है कि इसके बावजूद दुकानों से कोई भी सामान गायब नहीं होता।


यह क़स्बा शानि धाम के नाम से विख्यात है। हर साल यहां देश-विदेश से हज़ारों की संख्या में लोग दर्शन के लिए आते हैं। यहां ऐसी मान्यता है कि खुद भगवान शनिदेव उनके इस कस्बे की रक्षा करते हैं, जिस कारण यहां चोरी की घटनाएं नहीं होती।

लोगों का मानना है कि अगर कोई इस कस्बे के दो किलोमीटर के क्षेत्र में चोरी करता है, तो वो अंधा हो जाता है। माना जाता है कि इस डर से यहां चोरी की घटनाएं नहीं होतीं।

Discussions



TY News