भारत की फ्रिसबी टीम विश्व चैंपियनशिप में, आप भी कर सकते है अपना योगदान

author image
6:57 pm 22 Jul, 2016


कई लोगों के लिए फ्रिसबी खेलना सिर्फ समय व्यतीत करने का जरिया हो सकता है, लेकिन क्या आपको पता है कि  भारत की अपनी एक फ्रिसबी टीम भी है। और अब जल्द ही यह टीम वर्ल्ड चैंपियनशिप में भाग लेगी।

Frisbee

भारत की अंडर-20 फ्रिसबी टीम पोलैंड के रॉकलव में 31 जुलाई से 6 अगस्त तक होने वाली वर्ल्ड जूनियर अल्टीमेट चैंपियनशिप में भारत का नेतृत्व करेगी।

Frisbee

आप भी दे सकते है इसमें अपना योगदान

भारत की यह फ्रिसबी टीम अपने दृंढ संकल्प और मेहनत से इस खेल में  जीत हासिल कर देश का नाम ऊंचा करने की तैयारियों में जोरों-शोरों से लगी हुई है। और इसमें आप भी भागीदार बन सकते हैं। इस खेल के लिए क्वालीफाई करने के बाद, प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए टीम को फंड की जरूरत है।

यह खेल भारत में अपने शुरूआती दौर से गुजर रहा है। इस टीम से 23 खिलाडी जुड़े हुए है, जिसमें से सात खेलते है और बाकियों को बारी-बारी से खिलाया जाता है।

Frisbee

यह खेल फ्लाइंग डिस्क के साथ खेल जाता है। इस खेल की सबसे बड़ी खासियत यह है कि इसमें और खेलों की तरह कोई भी रेफरी या अंपायर नहीं होता। यह खेल पूरी तरह से खिलाडियों के ‘फेयर प्ले’ की तर्ज पर खेला जाता है।

खेल में ईमानदारी बनाए रखने की जिम्मेदारी हर एक खिलाडी की होती है और हर एक खिलाडी अपना फ़ाउल खुद कॉल करता है।

Frisbee


आर्थिक रूप से कमजोर देश के अलग-अलग शहरों से ताल्लुक रखने वाले 20 साल से भी कम उम्र के खिलाड़ियों की यह टीम जीत का सपना लिए इस प्रतियोगिता में उतरना चाहती है।

Frisbee

सामान्य परिवार से ताल्लुक रखने वाले  इन खिलाडियों के लिए प्रतियोगिता में भाग लेने के खर्च को उठाना बेहद मुश्किल हो रहा है।

Frisbee

ताजा जानकारी के अनुसार, अभी इस प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए 14 खिलाडी जा रहे है, वहीं 6 खिलाडियों के टिकट का इंतज़ाम नहीं हो पाया है। उधर तीन को डाक्यूमेंट्स पूरे न होने पर पासपोर्ट तक नहीं मिला है।

Frisbee

आँखों में जीत का सपना लिए ये खिलाडी विदेशी धरती पर भारत का परचम लहराना चाहते हैं। आप भी इस में सहभागी हो सकते है।

आप इन खिलाडियों को मदद राशि दे इसमें अपना योगदान दे सकते है। मदद राशि देने के लिए यहाँ क्लिक करे। आप उन्हें जीत की शुभकामनाएं उनके फेसबुक पेज पर भेज सकते है।

Popular on the Web

Discussions