भारत में जन्मे अमेरिकी को मिला चांद पर यान भेजने का अधिकार

author image
5:47 pm 4 Aug, 2016


संघीय विमानन प्रशासन (FAA) ने एक निजी अमेरिकी कंपनी को अतंरिक्ष में यान भेजने और उसे चांद पर उतारने का लाइसेंस जारी कर दिया है।

इस रिपोर्ट के मुताबिक, कंपनी के सह-संस्थापक और अध्यक्ष भारतीय मूल के नवीन जैन ने FAA से मंजूरी मिलने के बाद यान को चांद पर भेजने की उल्टी गिनती शुरू कर दी है। ‘मून एक्सप्रेस’ नाम की यह कंपनी 2017 में यान को चांद पर भेजने का काम शुरू करेगी।

Naveen Jain

नवीन जैन naveenjain

कंपनी ने बताया कि अमेरिका के इस अहम नीतिगत निर्णय के बाद ‘मून एक्सप्रेस’ को चांद की सतह पर पहला रोबोटिक यान भेजने की अनुमति मिली है।

नवीन जैन का इस मिली कामयाबी को लेकर कहना है:

‘मून एक्सप्रेस के लिए अब आकाश भी सीमा नहीं रहा। यह तो शुरुआत है। अपने भविष्य को सुरक्षित करने और अपने बच्चों के लिए अंतहीन संभावनाओं के द्वार खोलने के लिए अंतरिक्ष यात्रा ही एक रास्ता है। भविष्य में हम वहां से बहुमूल्य संसाधन, धातु और चंद्रमा के पत्थरों को यहां धरती पर लाने का सपना देखते हैं।’


आपको बता दे कि अब तक किसी भी निजी कंपनी के अंतरिक्ष यान को पृथ्वी की कक्षा से बाहर नहीं भेजा गया है। अभी तक जितने भी यान बाहरी कक्षा में गए है वह सरकारी एजेंसियों की ओर से ही भेजे गए हैं।

यह पहली बार होगा जब किसी निजी कंपनी का विमान बाहरी कक्षा में प्रवेश करेगा।

यह कंपनी ज्यादा पुरानी नहीं है। 2010 में इस कंपनी की शुरुआत अंतरिक्ष मामलों के विशेषज्ञ डॉ. बॉब रिचर्ड्स,  उद्योगपति नवीन जैन और अंतरिक्ष तकनीक के जानकार डॉ. बार्ने पेल ने मिलकर की।

Popular on the Web

Discussions