परेड कर रहे जवान को 90 लाख की कार से रौंदने का आरोपी अम्बिया सोहराब अब भी फरार

author image
12:46 pm 16 Jan, 2016

कोलकाता में परेड के दौरान वायुसेना के जवान को अपनी 90 लाख की कार से कथित तौर पर रौंदने वाला वरिष्ठ तृणमूल कांग्रेस नेता मोहम्मद सोहराब का पुत्र अम्बिया सोहराब अब भी फरार है। इस घटना के तीन दिन बीत जाने के बाद भी पुलिस उसके ठिकाने का पता नहीं लगा सकी है।

रिपब्लिक डे परेड रिहर्सल के दौरान सोहराब की ऑडी कार ने एयरफोर्स अधिकारी अभिमन्यु गौड़ को रौंद दिया था। अभिमन्यू वायु सेना की एक टुकड़ी की अगुवाई कर रहे थे। उन्हें जल्दी ही अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

पूर्वाभ्यास के दौरान सड़क को सामान्य तौर पर असैन्य यातायात के लिए बंद कर दिया जाता है। कोलकाता का राजपथ कहे जाने वाले इस सड़क पर उस दिन भी यातायात बन्द था। इसके बावजूद अम्बिया सोहराब की कार ने वायुसेना के ड्रिल प्रशिक्षक कॉर्पोरल अभिमन्यु गौड़ की तरफ तेज गति से आई और उन्हें टक्कर मार दी। बताय़ा गया है कि इस कार ने तीन सुरक्षा घेरों को तोड़ा था।

करीब 90 लाख रुपए कीमत की ऑडी कार एक ऐसी कंपनी के नाम पंजीकृत है, जो तृणमूल कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मोहम्मद सोहराब की है। शोरूम के रिकॉर्ड के मुताबिक, यह कार सोहराब के बेटे अम्बिया सोहराब के लिए थी।

कोलकाता पुलिस की एक टीम, पूर्व विधायक और उनके बेटे से सम्पर्क करने की कोशिश कर रही है, लेकिन वे फरार हैं। उनका मोबाइल फोन बन्द है और उनके घर पर भी ताला लगा हुआ है। पुलिस ने पूर्व विधायक के पांच ठिकानों और एक होटल पर छापेमारी की है।

मोहम्मद सोहराब को पश्चिम बंगाल में सत्ताधारी तृणमूल कांग्रेस का वरदहस्त प्राप्त है। वह पहले राष्ट्रीय जनता दल के साथ संबद्ध था और उसे वामदलों का आशीर्वाद प्राप्त था। सोहराब कोलकाता के बिजनेस हब कहे जाने वाले बड़ा बजार इलाके में अपनी गतिविधियां चलाता है।

मजे की बात की है कि 2006 तक मामूली जिन्दगी जीने वाला यह शख्स नेता बनने के बाद रातोंरात रईस बन गया। कहा जाता है कि मछुआ फल पट्टी पर सोहराब का एकछत्र राज है। पिछले 10 साल में उसने अकूत संपत्ति इकट्ठा कर ली है।

इस बीच, वायुसेना ने आरोप लगया है कि कुछ लोगों के निहित स्वार्थ की वजह से जांच सही दिशा में आगे नहीं बढ़ रही है।


सेना के प्रवक्ता विंग कमान्डर एस एस विर्दी ने एक समाचार चैनल से बातचीत में कहाः

“इस मामले में जांच सही दिशा में आगे नहीं बढ़ रही है। इसमें कुछ लोगों के निहित स्वार्थ हैं।”

पुलिस सूत्रों के मुताबिक, दुर्घटना के बाद कार के मालिक की पहचान छिपाने की कोशिश की गई थी। कार के अंदर पंजीकरण वाले कागजात को फाड़ कर फेंक दिया गया था। वहीं कार के बाहर व भीतर इत्र छिड़क दिया गया था।

संभवतः शराब की दुर्गन्ध को छुपाने के लिए ऐसा किया गया था। बताया गया है कि कार का चालान इसके अन्दर मिला था और इससे उस शोरूम को ढूंढ़ने में मदद मिली जहां से यह खरीदी गई थी।

अम्बिया सोहराब पहले भी कानून तोड़ता रहा है। बीते दिसम्बर महीने में एक रात कोलकाता के एक डिस्कोथेक में मैनेजर को कई घूंसे जड़े थे और धमकी दी थीः

“मेरा बाप पूर्व विधायक है और टीएमसी का नेता है। मुझे छूने से पहले अन्जाम के बारे में जान लो।”

वर्ष 2006 में अम्बिया ने एक ट्रैफिक पुलिस अधिकारी को इसलिए थप्पड़ जड़ दिया था, क्योंकि उसने उससे लायसेन्स दिखाने को कहा था। उसे गिरफ्तार किया गया, लेकिन थोड़ी ही देर बाद उसे छोड़ दिया गया।

Discussions



TY News