पृथ्वी को बचाने के लिए एक साथ आए दुनिया के 197 देश

2:32 pm 16 Oct, 2016


पृथ्वी को बचाने के लिए दुनिया के 197 देश एक साथ आगे आए हैं। जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिए भारत सहित 197 देशों ने ग्रीनहाउस गैस हाइड्रोफ्लूरोकार्बन्स (एचएफसी) का इस्तेमाल कम करने पर सहमति जताई है।

रवांडा की राजधानी किगाली में हुई एक महत्वपूर्ण बैठक के दौरान इन सभी देशों ने वर्ष 2045 तक एचएफसी का इस्तेमाल 80 से 85 प्रतिशत तक कम करने का लक्ष्य रखा है। यहां हुए समझौते के मुताबिक, सबसे पहले अमेरिका, यूरोप व अन्य विकसित देश एचएफसी का इस्तेमाल कम करेंगे। ये देश इसकी शुरुआत वर्ष 2019 से करेंगे।

इससे पहले 23 अप्रैल को भारत ने संयुक्त राष्ट्र में ऐतिहासिक पेरिस जलवायु समझौते पर 170 से अधिक देशों सहित हस्ताक्षर किए थे। इस समझौते को बढ़ती ग्लोबल वार्मिंग की दृष्टि से एक महत्वपूर्ण कदम माना जा रहा है।

इस समझौते के तहत अब सभी देश धरती पर होते अनियमित जलवायु परिवर्तन, ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन में कमी लाने को लेकर साझा काम करेंगे। इसका उद्देश्य पृथ्वी को जलवायु परिवर्तन के खतरों से बचाना है।

किगाली में हुई बैठक में यह साफ हुआ है कि भारत जैसे विकासशील देशों को 2024-26 को आधार वर्ष मानकर 2045 तक 85 प्रतिशत इस्तेमाल कम करना है। भारत में इसकी शुरूआत वर्ष 2028 से होगी।

Discussions