महाराष्ट्र के मराठवाड़ा में जारी है बारिश का दौर, पिछले कई सालों का सूखा खत्म

12:20 pm 3 Oct, 2016


महाराष्ट्र के सूखाग्रस्त मराठवाड़ा इलाके में पिछले कई सालों से जारी सूखे का दौर खत्म हो गया है। दरअसल, यहां पिछले 20 सितंबर से बारिश हो रही है और नदी, कुएं, तालाब पानी से लबालब भर गए हैं। यही नहीं, लातूर जैसा शहर जहां पानी के लिए दंगे होने की आशंका व्यक्त की गई थी, वहां अगले पांच सालों के लिए पानी की व्यवस्था हो गई है।

जल संकट से जूझ रहे इस क्षेत्र में ट्रेन के माध्यम से 4 महीने तक पानी पहंचाया गया था। मराठवाड़ा इलाके में इस साल 1063 मिमी हुई। यह सामान्य से 132 फीसदी अधिक है।

लबालब हुए डैम

लगातार हो रही बारिश की वजह से यहां के डैम भर गए हैं। आलम यह है कि जो डैम 15 दिन पहले पूरी तरह खाली थे, अब लबालब है। पिछले सात साल में पहली बार यहां के मांजरा डैम के गेट को खोला गया।

indianexpress

indianexpress

9 हजार मिलियन क्यूबिक पानी की क्षमता वाला यह डैम पांच लाख लोगों की प्यास बुझाता है। लातूर शहर को रोजाना 60 मिलियम लीटर पानी की जरूरत होती है। इस लिहाज से पांच साल तक का इंतजाम हो गया है।

मराठवाड़ा इलाके में करीब 15 हजार से अधिक गांव सूके की चपेट में आ गए थे। यहां के औरंगाबाद, लातूर और बीड़ जिलों की हालत सबसे अधिक खराब थी।

बाढ़ जैसे हालात

इस बीच, अधिक बारिश होने की वजह से मराठवाड़ा के कई इलाकों में 250 से अधिक लोगों के फंसने की खबर है।

Discussions