कई राज्यों में भारी बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त, मध्यप्रदेश में अब तक 26 मरे

author image
1:50 pm 12 Jul, 2016

मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, गुजरात, राजस्थान और असम सहित देश के कई राज्यों में लगातार हो रही बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। अकेले मध्य प्रदेश में भारी बारिश की वजह से 26 लोग मारे गए हैं।

मौसम विभाग ने मध्य प्रदेश में भारी से भारी बारिश की चेतावनी दी है। इंदोर शहर में बादल फटने जैसे हालात बन गए हैं।

इस बीच,. असम में भी बारिश की वजह से हालात बदतर हुए हैं। जोरहाट सहित राज्य के 6 जिलों में लाखों लोग बारिश और बाढ़ से प्रभावित हुए हैं। सबसे अधिक प्रभावित जिलों में मोरीगांव, लखीमपुर, गोलाघाट, बारपेटा, जोरहाट, धेमाजी शामिल हैं।

यहां के पोबितोरा जंगल का करीब 60 फीसदी हिस्सा पानी में डूब गया है, जिससे यहां रहने वाले जानवरों के अस्तित्व पर भी खतरा मंडरा रहा है।

गौरतलब है कि पोबितोरा वाइल्ड लाइफ सेंचुरी में दुनिया के सबसे अधिक एक सींग वाले राइनोसोरस पाए जाते हैं। राज्य का एक अन्य वाइल्ड लाइफ सेंचुरी काजीरंगा भी बाढ़ की चपेट में है।

महाराष्ट्र के अमरावती में भी बाढ़ सरीखे हालात हैं। वहीं, राजस्थान के कोटा और गुजरात के डांग जिलों में हालात बदतर हुए हैं।

गढ़चिरोली में वैनगंगा नदी में एक नाव के उलट जाने से 10 लोग डूबने लगे। जिसमें 7 लोगों को बचा लिया गया है, जबकि 3 लोग अब भी लापता बताए जाते हैं।

बताया गया है कि राजस्थान में भारी बारिश के बाद चंबल में कोटा बैराज से रविवार शाम को 5 हजार क्यूसेक व 7500 क्यूसिक पानी छोड़ा गया था। पानी छोड़े जाने की वजह से आसपास के गांवों में बाढ़ जैसे हालात हो गए।

दूसरी तरफ, कोटा के नजदीक ही समरानियां में एक स्कूल शिक्षक के नदी में फंस कर बह जाने की सूचना है। लोगों ने शिक्षक को बचाने की भरपूर कोशिश की, लेकिन उन्हें बचाया नहीं जा सका। आज तक उन्हें खोजा नहीं जा सका है।

वहीं, इलाके के श्योपुर में हो रही बारिश की वजह से नदी का जलस्तर 122.30 मीटर पर पहुंच गया।

Discussions



TY News