बिरयानी के नाम गोमांस बेचने का दावा, जांच के लिए सड़क पर उतरी पुलिस

author image
4:12 pm 7 Sep, 2016

हरियाणा सरकार प्रदेश में बीफ बैन कर चुकी है। लेकिन 11 सितंबर को देशभर में बकरीद को देखते हुए सरकार को अंदेशा है कि सड़क पर बिरयानी के नाम पर बीफ बिक सकता है। ऐसे में हरियाणा सरकार द्वारा बनाए गए गौसेवा आयोग ने पुलिस से गौमांस बेचने वालों को पकड़ने के लिए गुहार लगाई है।

इस रिपोर्ट के मुताबिक, राज्य के गौसेवा आयोग ने पुलिस को मुस्लिम बहुल मेवात जिले में दुकानों से बिरयानी के सैंपल लेने को कहा है। पुलिस जांच कर रही है कि क्या बिरयानी वाकई में चिकन या मटन से बनी है या फिर बीफ का इस्तेमाल किया जा रहा है।

आयोग के चेयरमैन भनी राम मंगला ने बताया कि यह निर्णय स्थानीय लोगों की शिकायतें मिलने के बाद लिया गया है। आयोग को बिरयानी की आड़ में सड़क किनारे पटरी लगाने वाले और दुकानदारों द्वारा खुलेआम बीफ से बनी बिरयानी बेचने की शिकायतें मिली हैं। बहरहाल, मेवात के बाद अन्य राज्यों में भी इसी तरह की जांच की जाएगी।


इसके साथ ही हरियाणा पुलिस के (स्पेशल टास्क) डीएसपी भारती अरोड़ा ने पुलिस को गौ तस्करी, गौहत्या की जांच करने के काम में लगा दिया गया है।

सरकार ने बीफ पाए जाने पर नियम कड़े कर दिए हैं। यदि सैंपल में बीफ की पुष्टि होती है तो दुकानदार को तुरंत ही कार्रवाई की जाएगी।

बता दें कि हरियाणा में साल 2015 में गौहत्या से जुड़े कानून काफी सख्त कर दिए गए थे। इसमें गौहत्या करने पर 10 साल की सजा और गौमांस बेचने पर 5 साल की सजा का प्रावधान है।

Discussions



TY News