अब भारत में भी शीशे की छत वाली ट्रेन, रेल पर्यटन में स्विटजरलैन्ड को टक्कर

author image
1:50 pm 17 Apr, 2017

केन्द्र में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सरकार रेलवे को अपग्रेड करने पर काम कर रही है। इसी योजना के तहत अब देश में शीशे की छत वाली ट्रेन को हरी झंडी दिखाई गई है।

स्विटजरलैंड जैसे कई देशों में ग्लास सीलिंग वाले ट्रेन का परिचालन किया जाता है। भारत में इस तरह की कोशिश रेल पर्यटन को बढ़ावा देगी।

फिलहाल एक कोच को ट्रायल के तौर पर विशाखापत्नम-किरान्डुल पैसेन्जर ट्रेन में लगाया गया है, ताकि यात्री खूबसूरत अर्कु वैली का नजारा बेहतर तरीके से ले सकें।

यात्रियों को बाहर का पूरा दृश्य दिखाने की सहूलियत के लिहाज से कोच में घूमने वाली अति आरामदेह कुर्सियां लगाई गई हैं। इनमें पैर फैलाने की भी पूरी जगह है। साथ ही सीट्स को आगे-पीछे खिसकाया जा सकता है।

पर्यटकों के मनोरंजन के लिए कुर्सियों के पीछे विमानों की भांति टीवी स्क्रीन की व्यवस्था भी की गई है।


भारत, दुनिया के सबसे बड़े रेल नेटवर्क वाले देशों में से एक है। यहां करीब ढ़ाई करोड़ लोग रोजाना ट्रेन में सफर करते हैं। हालांकि, लंबे समय से बदइंतजामी की वजह से भारतीय रेल बदहाल स्थिति में है।

पर्यटन के लिहाज से महाराजा एक्सप्रेस और पैलेस ऑन व्हील्स जैसी ट्रेनें चलाई जा रही हैं, जिनमें यात्रा बेहद महंगी है। इन ट्रेनों में यात्रा सिर्फ धनी पर्यटक ही कर सकते हैं।

Discussions



TY News