इंसानी जान पर भारी पड़ी सूखे की मार; पानी भरने गई 12 साल की बच्ची ने तोड़ा दम

author image
5:18 pm 20 Apr, 2016


महाराष्ट्र के मराठवाड़ा के बीड़ इलाके के साबलखेड गांव में एक 12 साल की बच्ची योगिता देसाई की पानी भरने के दौरान मौत हो गई।

इस रिपोर्ट के मुताबिक, योगिता को दिल का दौरा पड़ा और उसके फेफड़ों ने भी काम करना बंद कर दिया था, जिस कारण योगिता की मौत हो गई।

Yogita Desai

योगिता देसाई

कक्षा पांच में पढ़ने वाली योगिता स्कूल की छुट्टी वाले दिन अपने परिवार के काम में मदद करने के लिए 500 मीटर की दूरी पर बने हैंडपंप से पानी लाने जाती थी। योगिता अपने घर से हैंडपंप तक करीबन 8 से 10 चक्कर लगाती थी, जिसमें वह हर चक्कर में करीब 10 लीटर पानी लेकर आती थी।

योगिता कुछ दिनों से बीमार चल रही थी। लेकिन घर में पानी की किल्लत के कारण योगिता हर बार की तरह इस बार भी पानी भरने के लिए 500 मीटर दूर हैंडपंप तक गई। उसने करीबन 5 चक्कर लगाए, लेकिन पांचवें चक्कर के बाद स्थानीय लोगों का कहना है कि योगिता हैंड पंप के पास ही बेहोश हो गई।योगिता के चाचा ईश्वर देसाई ने बताया:

“करीब 4 बजे हमें बताया गया कि योगिता बेहोश हो गई। हम उसे अस्पताल ले गए, जहां डॉक्टर ने उसे स्लाइन लगाई, लेकिन उसकी मौत हो गई।”

बीड जो कि मराठवाड़ा क्षेत्र में स्थित है, लगातार तीन वर्षों से सूखे की मार से जूझ रहा है।

महाराष्ट्र में जल संकट बढ़ता जा रहा है। राज्य भर के बांधों में पानी का स्तर लगातार कम होता जा रहा है।

इसके अलावा, आंध्र प्रदेश और ओडिशा सहित भारत के कई हिस्से भीषण गर्मी की मार झेल रहे है। वहीं इस भीषण गर्मी की चपेट में आकर  110 से अधिक लोगों की मौत हो गई है।

Popular on the Web

Discussions