भारत में महिलाओं को पुरुष की बराबरी करने में लगेंगे और 170 साल, जानिए क्या है मामला

author image
12:29 pm 28 Oct, 2016


भारत में कमाई के मामले में पुरुषों की बराबरी करने में महिलाओं को अभी और 170 साल लगेंगे। वहीं, पश्चिमी यूरोप में महिलाओं और पुरुषों के बीच आय का अंतर दूर करने में कम से कम 47 साल और लगेंगे।

विश्व आर्थिक फोरम ने पिछले बुधवार को जारी एक रिपोर्ट में कहा है कि भारत में अर्थ उपार्जन के मामले में पुरुष और महिलाओं के बीच खाई 2186 से पहले नहीं पटेगी।

रिपोर्ट में वैश्विक हालात का हवाला देते हुए कहा गया है कि शिक्षा के क्षेत्र में अभूतपूर्व कामयाबी हासिल करते हुए महिलाएं 95 देशों में आय के मामले में पुरुषों के बराबर हैं या फिर आगे चल रही हैं। इसके बावजूद महिलाओं के नौकरी हासिल करने की संभावना कम होती हैं या वह कम मामलों में वरिष्ठ पदों तक अपनी पहुंच बना पाती हैं।

इस रिपोर्ट का आधार वर्ष 2006 से शिक्षा, स्वास्थ्य, आर्थिक मौकों और राजनीतिक सशक्तीकरण के क्षेत्रों में लैंगिक विषमता के आंकड़ों को बनाया गया है।

रिपोर्ट में बताया गया है कि विषमता के दूर होने में 170 साल का प्रोजेक्शन पिछले 11 साल के डाटा पर आधारित है। इसमें विभिन्न इलाकों में भारी लैंगिक विषमता के आंकड़ों का भी ख्याल रखा गया है।


माना गया है कि पश्चिमी यूरोप में महिलाओं और पुरुषों के बीच आय का अंतर दूर करने में कम से कम 47 साल और लगेंगे। वहीं, पूरे दक्षिण एशिया का हवाला देते हुए कहा गया है कि यदि यहां प्रयास तेज नहीं किए गए तो 1000 साल से ज्यादा लगेंगे।

लैंगिक समता की सूची में स्कैंडिनेविया के देश चोटी पर हैं। आइसलैंड में पुरुष और महिलाओं के बीच सबसे ज्यादा समानता है। उसके बाद फिनलैंड, नॉर्वे और स्वीडन हैं। इस सूची में पांचवें नंबर पर रवांडा है।

Popular on the Web

Discussions