भारतीय बुजुर्ग को जमीन पर पटकने का आरोपी पुलिस वाला बरी

author image
9:21 pm 16 Jul, 2016

क्या आपको सुरेश भाई पटेल याद हैं? एक भारतीय बुजुर्ग, जिन्हें पिछले साल 2015 में संयुक्त राष्ट्र के मैडिसन में पुलिस द्वारा जमीन पर पटका गया था। इस वारदात के आरोपी अमेरिका के अलाबामा के पुलिस अधिकारी को अदालत ने बरी कर दिया है।

इस घटना में बुजुर्ग का आधा शरीर लकवाग्रस्त हो गया, लेकिन वह पुलिसकर्मी जिसके कारण सुरेश भाई की यह हालत हुई, उसे सभी आरोपों से मुक्त कर दिया गया। यह फैसला बुजुर्ग के परिवार और भारतीय मूल के अमेरिकी समुदाय को तगड़ा झटका माना जा रहा है।

अलाबामा की एक अदालत ने 27 वर्षीय मैडिसन के पुलिस अफसर एरिक पार्कर के खिलाफ मामले को खत्म कर दिया। पार्कर पर आरोप था कि उसने 58 साल के सुरेशभाई पटेल को जमीन पर पटकने के मामले में जरूरत से ज्यादा बल का प्रयोग किया था।

कोर्ट ने कहा: “श्री पटेल को पूरा अधिकार था और है कि इस देश के तमाम नागरिकों की तरह उन्हें भी अत्यधिक बल प्रयोग से आजादी मिले। उनका यहां स्वागत है और उन्हें पहुंची चोट पर दुख जताना जायज है, लेकिन, यह चोट अपने आप में श्री पार्कर के खिलाफ आपराधिक फैसले का आधार नहीं बन सकती।”

बुजुर्ग के साथ की गई बदसलूकी पुलिस वाहन के कैम में दर्ज हो गई थी, जिसके बाद इस वीडियो ने न केवल वहां के भारतीय मूल के अमेरिकी समुदाय के लोगों में, बल्कि भारत में भी आक्रोश की स्थिति पैदा कर दी।

Patel


गौरतलब है कि पटेल अपने पोते की देखभाल करने अमेरिका गए हुए थे। वह अपने बेटे के घर के बाहर टहल रहे थे। तभी एक पड़ोसी ने पुलिस को फोन किया कि ‘एक दुबला अश्वेत’ बिना वजह घूम रहा है और ताकाझांकी कर रहा है।

पुलिस घटनास्थल पर पहुंची और पटेल को रोका। पटेल ने कहा कि उन्हें अंग्रेजी नहीं आती (नो इंगलिश कहा था), अपने घर की तरफ इशारा किया, लेकिन पुलिस अफसर पार्कर ने उन पर बल प्रयोग किया।

पार्कर पर अभी भी इस घटना के सिलसिले में खराब आचरण में हमले के मामले का सिविल मुकदमा दर्ज है।

Discussions



TY News