यूरोप के कई देशों को रास नहीं आया चीन का OBOR, कहा EU को खतरा

author image
12:51 pm 16 May, 2017

चीन की महात्वाकांक्षी परियोजना OBOR के व्यापार समझौता मसौदे पर कई यूरोपीय देशों ने हस्ताक्षर करने से मना कर दिया है। यूरोपीय संघ के फ्रांस, जर्मनी, एस्टोनिया, यूनान, पुर्तगाल और ब्रिटेन सरीखे देशों ने इस मसौदे को अस्वीकर कर दिया है दो दिनों तक चले इस सम्मेलन में दुनियाभर के 30 देशों के नेताओं ने भाग लिया था।

चीन की यह महात्वाकांक्षी योजना प्राचीन रेशम मार्ग को पुनर्जीवित करने का एक बड़ा प्रयास माना जा रहा है, जिससे एशिया, यूरोप और अफ्रीका के बीच व्यापार को नए आयाम दिए जा सके। इस समझौते को सफल बने के लिए चीन सभी से समर्थन प्राप्त करने का प्रयास कर रहा है। हालांकि, यूरोप के देशों के इस रवैए से चीन को झटका लगना तय है।


OBOR व्यापार समझौता मसौदे पर हस्ताक्षर करने से मना करने वाले देशों का मानना है कि इसमें यूरोपीय संघ की चिंताओं को पर्याप्त रूप से सुलझाया नहीं है, जो सार्वजनिक क्षेत्र की खरीद एवं सामाजिक और पर्यावरणीय मानकों से संबद्ध हैं।

चीन ने यूरोपीय संघ को पिछले सप्ताह ही यह मसौदा उपलब्ध करवाया है और कहा है कि इसमें कोई तब्दीली नहीं की जा सकती है।

OBOR चीन को एशिया, यूरोप तथा अफ्रीका के अधिकतर देशों सो जोड़ने की महत्वकांक्षी पहल का हिस्सा है। चीन ने इस परियोजना के लिए 100 अरब यूआन की पेशकश की है।

Discussions



TY News